महिलाओं के खिलाफ अपराधों को नहीं सह पाता है ये पुलिस कमिश्नर

हैदराबाद एनकाउंटर करने वाला ये पुलिस कमिश्नर महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को नहीं सह पाता है. पहले भी कई बार ये महिलाओं पर होने वाले अत्याचार के खिलाफ कठोर कार्रवाई कर चुका है.  

महिलाओं के खिलाफ अपराधों को नहीं सह पाता है ये पुलिस कमिश्नर

हैदराबाद: तेलंगाना में डॉक्टर दिशा( कल्पित नाम) की हत्या और सामूहिक दुष्कर्म के चारों आरोपी शुक्रवार तड़के एनकाउंटर में मारे गए. इसके बाद लोग पुलिस की कार्रवाई की तारीफ कर रहे हैं. जिस पुलिस कमिश्नर की अगुवाई में ये एनकाउंटर किया, उनका नाम है सीवी सज्जनार. तेलंगाना में सज्जनार की छवि एनकाउंटर स्पेशलिस्ट की रही है. वो पहले भी महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों पर कठोर कार्रवाई कर चुके हैं.

2008 में कर चुके हैं एसिड अटैक के आरोपियों का एनकाउंटर

हैदराबाद के पुलिस कमिश्नर सीवी सज्जनार जब 2008 में वारंगल के एसपी थे, तब उन्होंने महिलाओं पर एसिट अटैक के आरोपियों का एनकाउंटर किया था. आरोपी एस श्रीनिवास राव ने दो दोस्तों के साथ मिलकर इंजीनियरिंग छात्रा पर एसिड फेंका था. इसके बाद सज्जनार की अगुआई में पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और कुछ घंटे बाद ही सभीआरोपियों को एनकाउंटर में मार गिराया. इस एनकाउंटर के बाद पीड़ित के कॉलेज की लड़कियां सज्जनार के घर पहुंची थीं और माला पहनाकर उनसे हाथ मिलाया था. कॉलेज में भी छात्र-छात्राओं ने मिठाइयां बांटीं और पुलिस के समर्थन में नारे लगाए थे.

क्रॉस फायरिंग में किया था एनकाउंटर

एसिड अटैक के आरोपियों के एनकाउंटर के बाद वारंगल पुलिस ने कहा था कि घटनास्थल पर सबूत जुटाने के दौरान वे सिपाहियों के हथियार छीनकर भाग रहे थे. इसी दौरान क्रॉस फायरिंग में मारे गए. दूसरी ओर, कुछ मानवाधिकार कार्यकर्ताओं का मानना था कि जनता का गुस्सा शांत करने और त्वरित न्याय के लिए सुनियोजित तरीके से तीनों को मारा गया था.

एनकाउंटर मैन के नाम से जाने जाते हैं पुलिस कमिश्नर सीवी सज्जनार 

हैदराबाद के पुलिस कमिश्नर सीवी सज्जनार एनकाउंटर मैन के नाम से लोकप्रिय हैं. ये कई माओवादियों के एनकाउंटर में भी शामिल रहे हैं. सज्जनार ने नक्सली नईमुद्दीन के एनकाउंटर में भी अहम भूमिका निभाई थी. हैदराबाद के बाहरी इलाके में इस नक्सली का एनकाउंटर हुआ था. इन्होंने स्पेशल इन्वेस्टिगेशन ब्रांच (SIB),डिप्टी इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस (DIG)के रूप में काम किया है. वहीं लगभग डेढ़ साल पहले उनकी नियुक्ति पुलिस कमिश्नर के रूप में हुई है.