• देश में कोविड-19 से सक्रिय मरीजों की संख्या 1,01,497 पहुंची, जबकि संक्रमण के कुल मामले 2,07615: स्त्रोत-PIB
  • कोरोना से ठीक होने वाले लोगों की संख्या- 1,00,303 जबकि अबतक 5,815 मरीजों की मौत: स्त्रोत-PIB
  • रेलवे ने 4155 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का परिचालन किया; 57+ लाख यात्रियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया गया
  • इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी मंत्री ने #AatmaNirbharBharat के लिए इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 3 योजनाओं की शुरुआत की
  • #AatmaNirbharBharat के लिए #MakeInIndia को प्रोत्साहित करने के लिए DPIIT ने पब्लिक प्रोक्योरमेंट ऑर्डर, 2017 में संशोधन किया
  • एंटी-कोविड ​​ड्रग मॉलेक्यूल के फास्ट-ट्रैक विकास के लिए SERDB-DST ने IIT (BHU) वाराणसी में अनुसंधान के लिए सहयोग को मंजूरी दी
  • ट्राइफेड कोविड ​​-19 के कारण संकट में पड़े आदिवासी कारीगरों को हरसंभव सहायता प्रदान करेगी
  • पीएसए और डीएसटी ने संयुक्त रूप से राष्ट्रीय विज्ञान प्रौद्योगिकी और नवाचार नीति 2020 के निर्माण की प्रक्रिया की शुरुआत की
  • कृषि, सहकारिता एवं किसान कल्याण विभाग ने विभिन्न बागवानी फसलों के लिए 2019-20 का दूसरा अग्रिम अनुमान जारी किए हैं
  • कोविड के लक्षण विकसित होने पर, घबराएं नहीं, तुरंत 1075 पर कॉल करें #IndiaFightsCorona #BreakTheStigma

तीन तरफ से भारत को घेरने की शातिर चीनी चाल

सीमा पर भारत को घेरने की तिहरी चीनी चाल है ये. एक तरफ सीमा पर लद्दाख में चीनी सैनिक हैं, पीओके में पाकिस्तानी और कालापानी क्षेत्र में नेपाली सैनिक - चीन की मंशा काली है, लेकिन एनएसए अजीत डोभाल की मजबूत नज़र है चीन के जहरीले इरादों पर ..  

तीन तरफ से भारत को घेरने की शातिर चीनी चाल

नई दिल्ली.  सीधी तौर चीन की शातिर चाल है ये. हालांकि भारत को तीन तरफ से घेरने की कोशिश करने वाले ये तीनो देश भी अपने घर में अभी कोरोना से घिरे हुए हैं, लेकिन भारत के खिलाफ इनके मन में भरा हुआ जहर इस दौर में भी उफन कर सामने आ रहा है. फिलहाल भारत की सुरक्षा के लिए एक गंभीर चुनौती सामने नजर आ रही है जिसका उसे समझदारी और बहादुरी दोनों ही तरीकों से सामना करना है.

 

अति-संवेदनशील है ये भारत-विरोधी तिहरी घेराबंदी   

एक तरफ तो POK में पाकिस्तान लगातार संघर्षविराम का उल्लंघन कर रहा है, दूसरी तरफ लद्दाख में चीन के सैनिक आक्रामकता दिखा रहे हैं और तीसरी तरफ कालापानी क्षेत्र में नेपाल के सैनिकों का जमावड़ा है. ये साफ़ तौर पर गहरी साजिश नज़र आती है. कारगिल युद्ध के समय भी चीन ने ऐसी ही एक चालक चाल चली थी भारत के खिलाफ. इसलिए इस तीन तरफा घेरेबंदी को हल्के में आंकना आत्मघाती हो सकता है. इसी तरह इस स्थिति पर उत्तेजित हो कर कोई आक्रामक कदम उठा लेना भी घातक सिद्ध हो सकता है. 

 

फिंगर एरिया में चीन बंकर बना रहा है

लद्दाख में जहां चीनी और भारतीय सैनिक आमने-सामने हैं वह लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल अर्थात LAC है. दोनो देशों के सैनिकों के बीच जारी गतिरोध कम नहीं हो रहा है. पैंगोंग सो झील से लगे हुए  फिंगर एरिया में चीन ने बंकर बनाने शुरू कर दिये हैं ताकि भारतीय सैनिकों की पेट्रोलिंग और आवाजाही रोकी जा सके. और माना ये भी जा रहा है कि चीनी सैनिक गलवान क्षेत्र में तीन स्थानों पर भारतीय सीमा के भीतर आ घुसे हैं और हर क्षेत्र में पांच पांच सौ के लगभग चीनी सैनिक मौजूद हैं.

 

.ये भी पढ़ें. चीन के खिलाफ मोदी सरकार ने बदली रणनीति

एक ही समय पर तिहरी आक्रामकता

एक ही समय पर भारत के विरुद्ध तिहरी आक्रामकता सामान्य घटना नहीं मानी जा सकती. यह साफ तौर पर चीन प्रायोजित चाल नजर आ रही है उससे यही लगता है कि पाकिस्तान और नेपाल के साथ मिलकर भारत के विरुद्ध रणनीति बनाई गई है. लद्दाख में सीमा पर चीन ने आक्रामकता दिखाने का समय वही चुना है जब LoC पर पाकिस्तान की तरफ से लगातार गोलीबारी हो रही है, कश्मीर घाटी में पाक प्रायोजित आतंकी हमले किये जा रहे हैं और इसी समय पीओके में पाकिस्तान चुनाव कराने जा रहा है. नेपाल ने नया नक्शा बना लिया है और भारत के खिलाफ अकड़ दिखाने लगा है. ये सभी असामान्य हरकतों का एक साथ होना एक शातिर चीनी चाल है.

 

भारतीय सुरक्षा एजेन्सियों की है बारीक नजर

तीनो ही पड़ौसी देशों की शत्रुतापूर्ण गतिविधियों का भारत की सुरक्षा एजेंसियां बारीकी से निगरानी कर रही हैं. हर सीमा क्षेत्र पर अतिरिक्त सावधानी का ध्यान रखा जा रहा ताकि यदि किसी भी तरफ से कोई दुस्साहस किया जाता है तो भारत की तरफ से उसे काउंटर किया जा सके. सूत्रों के अनुसार लद्दाख के गलवान क्षेत्र मे में पहले से ज्यादा भारी सैन्य वाहन नजर आ रहे हैं जो जाहिर करता है कि तनाव लगातार बना हुआ है.

ये भी पढ़ें. अब नए आतंकी संगठन तैयार कर रहा है पाकिस्तान