कश्मीरियत की मिसालः सहमति से हटाई पुल बनने में बाधक मस्जिद

श्रीनगर के कमरवारी को नूरबाग से जोड़ने के लिए पुल का निर्माण होना है. वर्ष 2002 में झेलम नदी पर 10 करोड़ की लागत से 166 मीटर लंबा डबल लेन पुल बनाने की परियोजना मंजूर हुई, लेकिन इस कार्य में 18 बाधाएं थीं. फायर स्टेशन, 16 आवासीय व व्यावसायिक भवन और अबु तुराब मस्जिद की जमीन इसकी राह में बाधा बनी हुई थी. सबसे मुश्किल मस्जिद हटाने के लिए लोगों को तैयार करना था.

कश्मीरियत की मिसालः सहमति से हटाई पुल बनने में बाधक मस्जिद

जम्मूः आए दिन फसाद और आतंकी वारदातों के लिए बदनाम घाटी में विकास की खुशनुमा बयार बह रही है. लोग अमन चैन की जिंदगी जीना चाहते हैं और धर्म के नाम पर लड़ने-झगड़ने की जगह विकास को तरजीह दे रहे हैं. कश्मीरियत की बड़ी मिसाल कायम करते हुए लोग झेलम नदी पर पुल निर्माण के लिए 40 साल पुरानी मस्जिद की जगह देने के लिए राजी हो गए हैं. इसी माह के शुरू में विकास कार्य के लिए ऐतिहासिक गुरुद्वारा हटाने पर सहमति बन गई थी.

कश्मीरियत की बड़ी मिसाल
ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर के कमरवारी को नूरबाग से जोड़ने के लिए पुल का निर्माण होना है. वर्ष 2002 में झेलम नदी पर 10 करोड़ की लागत से 166 मीटर लंबा डबल लेन पुल बनाने की परियोजना मंजूर हुई, लेकिन इस कार्य में 18 बाधाएं थीं. फायर स्टेशन, 16 आवासीय व व्यावसायिक भवन और अबु तुराब मस्जिद की जमीन इसकी राह में बाधा बनी हुई थी. सबसे मुश्किल मस्जिद हटाने के लिए लोगों को तैयार करना था.

पुल के निर्माण में बाधक थी 40 साल पुरानी मस्जिद
वर्ष 2018 में लंबित परियोजनाओं को पूरा करने की योजना के तहत प्रशासन ने जम्मू-कश्मीर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फाइनांस कॉरपोरेशन के जरिए इसके लिए 2.5 करोड़ की निधि जारी की, लेकिन रुकावटें बरकरार थीं. पुल का निर्माण न होने से लोगों को कई दिक्कतें हो रही थीं. आखिर श्रीनगर के जिला उपायुक्त डॉ. शाहिद इकबाल चौधरी ने मस्जिद हटाने के लिए प्रयास शुरू किए. गत शनिवार को उन्होंने कमरवारी, नूरबाग और रामपोरा इलाके का दौरा किया. मस्जिद अबु तराब की प्रबंधन समिति के सदस्यों से बातचीत की.

पुल निर्माण के लिए दी मस्जिद की जमीन
बताया गया कि इस्लाम में आम लोगों की सहूलियत और उनकी तरक्की को सबसे अधिक अहमियत दी जाती है. विचार-विमर्श के बाद मस्जिद कमेटी ने पुल निर्माण की योजना को जल्द पूरा करने के लिए मस्जिद की जमीन देने पर सहमति प्रकट कर दी. डॉ. शाहिद ने बताया कि पुल निर्माण के साथ झेलम दरिया के दोनों किनारों पर बाढ़ संरक्षण और सौंदर्यीकरण के काम पूरे किए जाएंगे. साथ सटे बाजारों की सड़कों की मरम्मत की जाएगी और पूरे इलाके में स्मार्ट स्ट्रीट लाइटें स्थापित की जाएंगी.

चीन-ब्राजील ने मिलकर किया सैटेलाइट का प्रक्षेपण, अमेजन के जंगलों पर रखेंगे निगरानी

72 साल पुराना गुरुद्वारा हटाने को तैयार हुआ सिख समाज
श्रीनगर-बारामुला राष्ट्रीय राजमार्ग के विस्तार में जैनकूट के निकट 72 साल पुराने दमदमा साहिब गुरुद्वारा आड़े आ रहा था. वर्ष 2015 में यह मामला कोर्ट में भी गया, लेकिन यहां भी बात बनी प्रशासनिक कौशल से. श्रीनगर के जिला उपायुक्त डॉ. शाहिद इकबाल चौधरी ने सिख समाज के लोगों से बातचीत की. उन्हें परेशानी बताई और भरोसा दिया कि प्रशासन गुरुद्वारे के लिए न केवल जमीन उपलब्ध कराएगा, बल्कि निर्माण में भी सहयोग करेगा. इसके बाद गुरुद्वारा प्रबंधन भी मान गया.

22 दिसंबर: आज है साल का सबसे छोटा दिन और लंबी रात