रद्द हुई अमरनाथ यात्रा, हेलीकॉप्टर से जाएगी छड़ी मुबारक

 जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है. श्रीअमरनाथ श्राइन बोर्ड ने यात्रा रद्द करने का फैसला लिया है. पहले कहा था गया था कि अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से शुरू होने वाली थी. 

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : Jul 21, 2020, 08:25 PM IST
    • जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है
    • जम्मू-कश्मीर के कई इलाके जिनसे होते हुए यात्रा गुजरती है वह रेड जोन में शामिल हैं
    • छड़ी मुबारक को महंत दशनामी अखाड़ा के नेतृत्व में कुछ साधु-संतों के साथ हेलीकॉप्टर से गुफा तक ले जाया जाएगा
रद्द हुई अमरनाथ यात्रा, हेलीकॉप्टर से जाएगी छड़ी मुबारक

श्रीनगर:  कोरोना संकट इस वर्ष के सभी धार्मिक आयोजनों पर एक के बाद एक असर डाल रहा है. पहले रामनवमी पूजा, फिर जगन्नाथ यात्रा, चार धाम यात्रा और अब इस श्रृंखला में अमरनाथ यात्रा भी शामिल हो गई है. कई बार विचार बनने और यात्रा के शुरू किए जाने के अटकलों के बीच एक बार फिर जगन्नाथ यात्रा को स्थगित किया जा रहा है.  

कई इलाके हैं रेड जोन में शामिल
जानकारी के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के चलते अमरनाथ यात्रा रद्द कर दी गई है. श्रीअमरनाथ श्राइन बोर्ड ने यात्रा रद्द करने का फैसला लिया है. पहले कहा था गया था कि अमरनाथ यात्रा 21 जुलाई से शुरू होने वाली थी.

इससे भक्तों में उत्साह था, लेकिन अब यात्रा रद्द की जा रही है. इसके पीछे की वजह है जम्मू-कश्मीर के कई इलाके जिनसे होते हुए यात्रा गुजरती है वह रेड जोन में शामिल हैं.  

3 अगस्त को छड़ी मुबारक
दशनामी अखाड़ा के महंत दीपेंद्र गिरि की अगुवाई में तीन अगस्त को छड़ी मुबारक निकाली जाएगी. इसके पहले यात्रा 23 जून से शुरू होने वाली थी, लेकिन तब भी इसे टाल दिया गया था.

बाबा बर्फानी की छड़ी मुबारक इस साल पारंपरिक पहलगाम मार्ग से नहीं जाएगी क्योंकि उस मार्ग को अभी तक बर्फ की वजह से साफ नहीं किया जा सका है.

हेलीकॉप्टर से जाएगी छड़ी मुबारक 
छड़ी मुबारक को महंत दशनामी अखाड़ा के नेतृत्व में कुछ साधु-संतों के साथ हेलीकॉप्टर से गुफा तक ले जाया जाएगा ताकि यात्रा को पूर्ण किया जा सके और पारंपरिक रीति-रिवाज के साथ बाबा की पूजन प्रक्रिया पूरी हो सके. रक्षा बंधन के दिन छड़ी पूजन के साथ अंतिम दर्शन किए जाएंगे. 

सबको मिला अमृत, महादेव ने पिया विष: इसी से सावन का महीना है विशिष्ट

जानिए, क्यों महादेव को प्रिय हैं भांग, धतूरा, आक, बेल और दूध

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़