हिंदुस्तान को हॉकी में आखिरी बार ओलंपिक गोल्ड मेडल दिलाने वाले खिलाड़ी का निधन

भारतीय हॉकी टीम के पूर्व सदस्य रविंदर पाल सिंह का कोरोना संक्रमण बीमारी के कारण एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 65 वर्ष के थे.

Written by - Zee Hindustan Web Team | Last Updated : May 8, 2021, 04:00 PM IST
  • कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भारत को जिताया
  • 1980 में भारत को दिलाया था गोल्ड मेडल
हिंदुस्तान को हॉकी में आखिरी बार ओलंपिक गोल्ड मेडल दिलाने वाले खिलाड़ी का निधन

नई दिल्ली: भारत ने आज हॉकी के शानदार खिलाड़ी और मॉस्को ओलंपिक 1980 के स्वर्ण पदक विजेता भारतीय हॉकी टीम के पूर्व सदस्य रविंदर पाल सिंह को खो दिया. उनका कोरोना संक्रमण बीमारी के कारण यहां एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 65 वर्ष के थे.

24 अप्रैल से अस्पताल में थे भर्ती

1984 लॉस एंजेलिस ओलंपिक खेलने वाले रविंदर पाल सिंह 24 अप्रैल से ही एक अस्पताल में भर्ती थे. उनकी तबीयत में सुधार होने और कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया था.

रविंदर पाल सिंह ने शादी नहीं की थी और अपनी बड़ी बहन के साथ रहते थो और हाल में कोविड-19 से ठीक हुए थे. उन्हें सांस लेने में तकलीफ थी.  कोविड से ठीक होने के बाद उन्हें एक वार्ड में ऑक्सीजन के बिस्तर पर स्थानांतरित किया गया था, हालांकि उन्हें सांस लेने में समस्या थी. शुक्रवार को उनकी हालत बिगड़ने के बाद उन्हें आईसीयू में दाखिल किया गया था और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया. लेकिन शनिवार तड़के उनका निधन हो गया.

उनके परिवार के एक सदस्य ने कहा कि हमने उनके लिए कुछ अस्पताल भी बदले, क्योंकि दूसरे निजी अस्पतालों में भी डॉक्टर लापरवाह थे और उन्होंने उनका उचित देखभाल नहीं हो रहा था. अंत में, हमने उन्हें विवेकानंद पॉलीक्लिनिक में भर्ती कराया, जिस पर हमें भरोसा था.

कई अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भारत को जिताया

मॉस्को और लॉस एंजेलिस ओलंपिक के अलावा रविंदर पाल सिंह कराची में चैंपियंस ट्रॉफी (1980 और 1983), सिल्वर जुबली 10-नेशन कप (हांगकांग 1983), विश्व कप (मुंबई, 1982), एशिया सहित कई शीर्ष अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंटों में भी खेले थे. सिंह ने उस समय अपने अंतर्राष्ट्रीय करियर की शुरूआत की थी, जब 1979 में उन्हें जूनियर विश्व कप टीम में शामिल किया गया था.

ये भी पढ़ें- जानिए कौन हैं अरजन नगवसवाला जो टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल में रहेंगे टीम इंडिया के साथ

परिवार ने की थी आर्थिक सहायता की मांग

सिंह की भतीजी प्रज्ञा यादव ने बुधवार को, पूर्व खिलाड़ी के लिए हॉकी इंडिया से वित्तीय सहायता का अनुरोध किया था और महासंघ के अध्यक्ष ने उनके इलाज और अस्पताल में रहने के लिए पांच लाख रुपये की राशि मंजूर की थी. इस बीच, केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू ने सिंह के निधन पर शोक व्यक्त किया है.

खेल मंत्री ने जताया शोक

खेल राज्य मंत्री किरन रिजिजू ने रविंदर पाल सिंह के निधन पर अपनी संवदेनाएं प्रकट करते हुए कहा कि मुझे यह जानकर गहरा दुख हुआ कि रविंदर पाल सिंह जी कोविड-19 की लड़ाई हार गए. उनके निधन के साथ, ही भारत ने एक गोल्डन सदस्य खो दिया है, जो 1980 के मास्को ओलंपिक में स्वर्ण जीतने वाली हॉकी टीम के सदस्य. भारतीय खेलों में उनके योगदान को हमेशा याद रखा जाएगा.

Zee Hindustan News App: देश-दुनिया, बॉलीवुड, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल और गैजेट्स की दुनिया की सभी खबरें अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें ज़ी हिंदुस्तान न्यूज़ ऐप.  

ज़्यादा कहानियां

ट्रेंडिंग न्यूज़