Corona से ठीक होने पर भी रखें ध्यान, Health Ministry ने जारी की Guidelines

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार समय-समय पर नागरिकों की सुरक्षा के लिए गाइडलाइंस जारी कर रहा है. मंत्रालय ने रविवार को कोरोना वायरस से ठीक हो चुके लोगों की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जुड़ी कुछ गाइडलाइंस जारी की है. 

Corona से ठीक होने पर भी रखें ध्यान, Health Ministry ने जारी की Guidelines

नई दिल्लीः कोरोना महामारी से अभी तक लड़ रहे देश ने लॉकडाउन और अनलॉक के बीच कोरोना के कई लक्षणों और स्तरों की पहचान कर ली है. धीरे-धीरे इस वायरस का मिजाज और शरीर पर असर डालने की आखिरी क्षमता भी समझ आ रही है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार समय-समय पर नागरिकों की सुरक्षा के लिए गाइडलाइंस जारी कर रहा है. मंत्रालय ने रविवार को कोरोना वायरस से ठीक हो चुके लोगों की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं से जुड़ी कुछ गाइडलाइंस जारी की है. 

ठीक होने के बाद भी लोगों में मिले हैं लक्षण
जानकारी के मुताबिक, मंत्रालय ने कहा कि ये गाइडलाइंस कोरोना को हरा चुके मरीजों की सेहत को ठीक रखने में मददगार साबित होगी. दरअसल, महामारी से ठीक हो चुके कुछ मरीजों को अलग-अलग लक्षणों के चलते अस्पताल में भर्ती होना पड़ता है.

ऐसे में ये गाइडलाइंस काफी महत्वपूर्ण हैं. दिशा-निर्देशों में मंत्रालय की तरफ से कहा गया है कि महामारी से ठीक होने के बाद कुछ लोगों में थकान, बदन दर्द, खांसी, गले में खराश, सांस लेने में परेशानी आदि लक्षण देखे जा सकते हैं. 

ठीक हुए मरीजों को करना है गाइडलाइंस का पालन
बताया गया है कि मरीजों को पूरी तरह ठीक होने में काफी समय लग सकता है. यह इस पर भी निर्भर करता है कि वो कितने बुरी तरह से कोरोना से संक्रमित हुए थे और उन्हें कितने समय तक अस्पताल में रहना पड़ा था.

व्यक्तिगत स्तर पर इन गाइडलाइंस में संक्रमण से बचाव के लिए बरती जाने वाली सावधानियों जैसे मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना आदि को जारी रखने के लिए कहा गया है. 

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खाएं च्यवनप्राश
मंत्रालय की ओर से जारी किए गए दिशा-निर्देशों में लोगों को गरम पानी पीने, योग, सैर या श्वसन प्राणायाम जैसी हल्की एक्सरसाइज करने की सलाह दी गई है. इसमें कहा गया है कि अगर सेहत ठीक है तो घर के काम किए जा सकते हैं.

पेशेवर कामों को धीरे-धीरे शुरू किया जा सकता है. लोगों इम्यूनिटी मजबूत करने के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर सुबह गरम पानी या दूध के साथ एक चम्मच च्यवनप्राश खाने की सलाह दी है. 

सात दिन के भीतर  फिजिकल या टेलिफोनिक फॉलो-अप विजिट जरूरी
दूसरे घरेलू उपायों में सूखी खांसी या संक्रमण के दूसरे शुरुआती संकेत मिलने पर सुबह-शाम हल्दी डालकर गरम दूध पीने, हल्दी और नमक के पानी से गरारे करने और दिन में दो बार गरम पानी के साथ 1-3 चम्मच मुलेठी पाउडर खाने की सलाह दी गई है.

मरीज के ठीक होकर घर जाने के सात दिनों के भीतर फिजिकल या टेलिफोनिक फॉलो-अप विजिट करनी होगी. यह मुख्यत: उसी अस्पताल में होनी चाहिए, जहां उसका इलाज हुआ है. गंभीर मरीजों के लिए एक ज्यादा फॉलो-अप विजिट की सलाह दी गई है. जरूरत पड़ने पर होम आइसोलेशन वाले मरीज भी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र जा सकते हैं. 

यह भी पढ़िए-Good News: भारत में बन गई कोरोना की दवाई? जानवरों पर वैक्सीन का परीक्षण सफल

Corona in UP: योगी सरकार ने Private Labs पर कसा शिकंजा, टेस्टिंग के रेट निर्धारित