CAA विरोधियों के हंगामे से यूपी के 16 लाख छात्रों का भविष्य अधर में

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून यानी CAA के विरोधियों ने बवाल मचा रखा है. जिसकी वजह से उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET) परीक्षा स्थगित हो गई है. इस परीक्षा में 16 लाख से ज्यादा छात्र शामिल होने वाले थे. जिनका भविष्य दांव पर लग गया है. 

CAA विरोधियों के हंगामे से यूपी के 16 लाख छात्रों का भविष्य अधर में

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून(CAA) के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के डर से TET परीक्षाएं रद्द कर दी गई हैं. इसके लिए पूरे प्रदेश में 1986 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे जिसमें करीब 16 लाख से अधिक उम्मीदवार शामिल होने वाले थे. 

अगली तिथि की सूचना अभी नहीं
उत्तर प्रदेश के कई हिस्सों में इंटरनेट सेवाएं बाधित होने व बवाल के कारणवश उक्त परीक्षा स्थगित की गई है. बेसिक शिक्षा निदेशक एवं सचिव अनिल भूषण चतुर्वेदी ने बताया की परीक्षा की अगली तिथि की सूचना जल्दी से जल्दी प्रदान की जाएगी.

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET) की प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 1986 और उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 1063 सेंटर तैयार किए गए थे.

इंटरनेट बंद होने से हो रही थी परेशानी
उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET)  के अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र 12 दिसंबर को अपलोड किए गए थे. लेकिन प्रदेश में कई जगहों पर इंटरनेट बंद होने की वजह से  बहुत से अभ्यर्थी अभी तक प्रवेश पत्र भी नहीं निकाल पाए थे. इसी वजह से परीक्षा को स्थगित कर दिया गया.

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET) में प्राथमिक स्तर एवं उच्च प्राथमिक स्तर को मिलाकर कुल 16 लाख 56 हज़ार 338 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है.

दो पाली में होने वाली थी उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET) 
उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा (UP TET) के लिए सबसे ज्यादा परीक्षा केंद्र प्रयागराज में और सबसे कम कौशाम्बी में बनाए गए ते. 22 दिसंबर को प्रथम पाली में 10 से 12.30 बजे तक प्राथमिक और 2.30 से 5 बजे तक की दूसरी पाली में उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा होनी थी. लेकिन इसे फिलहाल अगले आदेश तक स्थगित कर दिया गया है. 

स्कूल कॉलेजों पर भी ताले
उत्तर प्रदेश में नागरिकता (संशोधन) कानून (CAA) के विरोध में हिंसक विरोध-प्रदर्शन के बाद योगी सरकार ने राज्य के सभी स्कूल-कॉलेजों बंद रखने का फैसला लिया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से शांति बनाए रखने और किसी भी अफवाहों पर विश्वास न करने की अपील की है. उन्होंने कहा है कि किसी को भी कानून हाथ में नहीं लेना चाहिए.