राजस्थान में नकली नोटों के रैकेट का भंडाफोड़

राजस्थान के सीकर से 6 लाख रुपये के जाली नोट बरामद किए गए हैं. इन नोटों के साथ 4 तस्करों को भी गिरफ्तार किया गया है. पुलिस को इसके पीछे बड़े रैकेट का हाथ होने का संदेह है. 

राजस्थान में नकली नोटों के रैकेट का भंडाफोड़

जयपुर: राजस्थान पुलिस ने जाली नोटों के एक रैकेट का पर्दाफाश किया है. सीकर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए करीब 6 लाख रुपये के जाली नोट बरामद किये है.

4 संदिग्ध हुए गिरफ्तार
राजस्थान पुलिस ने जाली नोट के साथ 4 बदमाशों को गिरफ्तार किया है. आईजी जयपुर रेंज एस सेंगाथिर ने बताया कि 16 दिसंबर को मुखबिर के जरिये सूचना मिली कि नीम का थाना क्षेत्र में चला बस स्टैण्ड के पास बजाज प्लैटिना मोटरसाइकिल पर 2 युवक सवार है जिनके पास नकली नोट है. 

सूचना के आधार पर जयपुर में भी कार्रवाई 
पुलिस ने सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए आरोपी श्यामलाल व अशोक को गिरफ्तार कर लिया जिनके पास में से 500 के 85 जाली नोट बरामद किये गये है. जिनका मूल्य करीब 42 हजार 500 रुपये है. आरोपियों ने पूछताछ में ये जाली नोट जयपुर से लाया हुआ बताया. 

जिसके बाद  पुलिस ने जयपुर  के मालवीय नगर से मनीष स्वामी और शिप्रा पथ इलाके से सुरेन्द्र को गिरफ्तार कर लिया है. इन दोनों के पास से भी लगभग 5 लाख 44 हजार रुपये के जाली नोट बरामद किये गये है. 

पुलिस ने 200 के 595 जाली नोट व 500 के 955 जाली नोट बरामद करते हुए 5 लाख 96 हजार 500 रुपये के जाली नोट बरामद किये है. पुलिस की आरोपियों से पूछताछ जारी है।

ये था घटनाक्रम
पुलिस ने जानकारी दी है कि 16 दिसंबर को मुखबिर के जरिए सूचना प्राप्त हुई थी कि दो व्यक्ति जिनके पास बजाज प्लैटिना मोटरसाइकिल है, वे बस स्टैंड पर खड़े हैं और उनके पास नकली नोट है. 

ये अपराधी इन जाली नोटों को चलाने की फिराक में थे. सूचना मिलते ही नीम का थाना सदर पुलिस ने कार्रवाई करते हुए चला बस स्टैंड से दो व्यक्तियों को पकड़ लिया. गिरफ्तार किए गए बदमाशों से एक का नाम श्यामलाल है जो कि सीकर का रहने वाला है. वहीं दूसरे का नाम अशोक था जो कि कुशलपुरा का रहने वाला था. 

पुलिस की पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि जयपुर  से पैसे लेकर आए थे. जिसके बाद उनके बताए पते पर पुलिस ने जयपुर  में भी छापा मारा. जहां से मनीष स्वामी के पास से होंडा सिटी कार में 4.35 लाख और दूसरे व्यक्ति सुरेन्द्र से 1.19 लाख रुपए बरामद किए गए. 

आरोपियों से पुलिस की पूछताछ लगातार जारी है. जिससे कि यह पता लगाया जा सके कि आखिर इनके पास जाली नोट आए कहां से.