• कोरोना वायरस पर नवीनतम जानकारी: भारत में संक्रमण के सक्रिय मामले- 6,19,088 और अबतक कुल केस- 20,27,075: स्त्रोत PIB
  • कोरोना वायरस से ठीक / अस्पताल से छुट्टी / देशांतर मामले: 14,27,006 जबकि मरने वाले मरीजों की संख्या 42,518 पहुंची: स्त्रोत PIB
  • कोविड-19 की रिकवरी दर 67.98% से बेहतर होकर 68.32% पहुंची; पिछले 24 घंटे में 48,900 मरीज ठीक हुए
  • पीएम मोदी ने नई शिक्षा नीति को गेम चेंजर के रूप प्रशंसा की; इसे नए भारत की नींव बताया
  • चुनने, बदलाव और कौशल बढ़ाने का लचीली व्यवस्था देता है, संस्थानों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान अधिक स्वायत्तता प्रदान करता है
  • शिक्षण को खोज-आधारित और विश्लेषण-आधारित मोड में ले जाएगा
  • आत्मनिर्भर ऐप चैलेंज का ग्रैंड फिनाले आज आयोजित, इस दौरान फाइनलिस्ट ने देश में विकसित सर्वश्रेष्ठ भारतीय ऐप का प्रदर्शन किया
  • देश में जनवरी में 1 नैदानिक प्रयोगशाला थी जिसकी संख्या 1370 हो गई; जो पिछले 3 दिनों तक 6 लाख से अधिक जांच करने में सक्षम है
  • दिल्ली एयरपोर्ट ने एक पोर्टल का विकास किया जो देश भर में अंतर्राष्ट्रीय आगमन की प्रक्रिया को आसान और संपर्क-विहीन बनाएगा
  • जल जीवन मिशन के तहत अब 25% घरों में नल से पीने का पानी पहुंचता है, 2024 तक हर ग्रामीण तक पहुंचने का लक्ष्य है: जल शक्ति मंत्री

भारत का साथ मिलते ही अमेरिका का चीन पर गुस्सा उबला

चीन के साथ सीमा विवाद के मसले पर अमेरिका भारत के साथ लगातार खड़ा रहा है. अब जब भारत ने खुलकर अमेरिका का चीन के हांगकांग मसले पर समर्थन कर दिया है, अमेरिका का चीन पर गुस्सा दुगुना हो गया है..  

भारत का साथ मिलते ही अमेरिका का चीन पर गुस्सा उबला

नई दिल्ली. इधर भारत का अमेरिका को समर्थन मिला उधर अमेरिका का गुस्सा चीन पर भड़क उठा. अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हांगकांग पर चीन के उत्पीड़न का विरोध करते हुए कहा कि ये चीन की सरकार चला रही कम्युनिस्ट पार्टी का असली चेहरा है.

 

''चीन का रवैया आक्रामक है''

चीन द्वारा भारत के साथ जबर्दस्ती भड़काये गये सीमा विवाद का दुनिया भर में विरोध हुआ है. अमेरिका ने इस मसले पर मुखर हो कर भारत का समर्थन किया है और इसे चीन का भारत के प्रति आक्रामक रवैये करार दिया है. व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केली मैक्नेनी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का उल्लेख करते हुए बयान जारी किया है कि दक्षिण एशियाई क्षेत्र में भारत समेत अन्य देशों के प्रति चीन का आक्रामक रवैया चीन कम्युनिस्ट पार्टी वाली सरकार का असली चेहरा है.

मिला अमेरिका का स्पष्ट समर्थन

अमेरिका ने भारत को सीधा समर्थन सीधे शब्दों में दे दिया है और चीन को उसके सभी पड़ोसी देशों विशेषकर भारत के प्रति दिखाये जा रहे आक्रामक रवैये के लिए चेतावनी दे डाली है. अमेरिका की तरफ से चीन के लिये जारी बयान में कहा गया है कि चीन भारत के विरुद्ध जिस तरह लगातार आक्रामक है, वह अस्वीकार्य है और उसे अपनी इस नीति पर फिर से विचार करने की जरूरत है. 

''अमेरिका की बराबर नजर है''

व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केली मैक्नेनी ने अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का उल्लेख करते हुए जारी किये अमरीकी बयान में कहा कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के जारी सीमा-विवाद और तनाव पर अमेरिका की बराबर नजर है. मैक्नेनी ने कहा कि राष्ट्रपति की नजर इस पर भी है कि भारत-चीन सीमा पर चीन का जो रुख है, वह आक्रामक है.

ये भी पढ़ें. जर्मनी & अमेरिका ने भारत पर चीन का ये वार रोका