• पूरी दुनिया में कोरोना से 1201964 लोग प्रभावित, अब तक 64727 लोगों की मौत हुई,246638 लोग रोगमुक्त हुए
  • भारत में कोरोना मरीजों की कुल संख्या 3530, इसमें से 89 लोगों की मौत हुई, 213 इलाज के बाद ठीक हुए
  • महाराष्ट्र में कोरोना के सबसे ज्यादा 490 मरीज, 24 लोगों की मौत हुई, 42 लोग ठीक हुए
  • तमिलनाडु में कोरोना से 411 लोग प्रभावित, 2 की मौत, 6 लोग ठीक हुए
  • केरल में अब तक 295 लोगों को हुआ कोरोना, 2 की मौत हो चुकी है, 41 इलाज के बाद ठीक हुए
  • दिल्ली में कोरोना के 445 मरीज, 6 की मौत, 15 लोग ठीक हुए, मध्य प्रदेश में कोरोना से 155 लोग संक्रमित, 9 लोगों की मौत
  • यूपी में कोरोना के 174 मरीज, 19 लोग ठीक हुए, 2 लोगों की मौत
  • राजस्थान में कोरोना के 200 मरीज, 21 लोग इलाज के बाद ठीक हुए, अभी तक एक भी मौत नहीं
  • तेलंगाना में कोरोना के 158 मरीज, 7 लोगों की मौत, मात्र 1 ही इलाज के बाद ठीक हुआ
  • कर्नाटक में कोरोना के 128 मरीज और आंध्र प्रदेश में 161 लोगों में कोरोना वायरस का असर

पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ अब हैं पाकिस्तान के भगोड़े

जान बचाने की कोशिश तो कामयाब रही नवाज़ शरीफ की लेकिन अब वे कभी पाकिस्तान वापस नहीं आ पाएंगे क्योंकि जमानत की शर्तों का उल्लंघन करने पर इमरान सरकार ने नवाज शरीफ को भगोड़ा घोषित कर दिया है..  

 पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ अब हैं पाकिस्तान के भगोड़े

 

नई दिल्ली. जैसी करनी वैसी भरनी. नवाज़ शरीफ वैसे तो शरीफ होने का दिखावा करते थे लेकिन उनकी बेनकाब 'शराफत' का सबसे सही पता भारत को है क्योंकि भारत से बैर उनकी भी पुश्तैनी बीमारियों में शुमार था. जैसा बोया उन्होंने वे वैसा ही काट रहे हैं. अब पाकिस्तान की सरकार ने उनको भगोड़ा घोषित कर दिया है.

 

लंदन में इलाज करा रहे हैं शरीफ 

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ किस्मत वाले थे कि वक्त रहते पाकिस्तान से इलाज के बहाने निकल गए और अभी भी यही दिखावा कर रहे हैं कि वे लंदन में अपना इलाज करा रहे हैं. फिलहाल पाकिस्तान से आई एक खबर उनके लिए अच्छी खबर नहीं है कि उनको इमरान सरकार ने भगोड़ा घोषित कर दिया है. पाकिस्तान का आरोप है कि लंदन में इलाज कर रहे डॉक्टरों से नवाज शरीफ ने मेडिकल रिपोर्ट लेकर पाकिस्तान नहीं भेजी है और इसे उनकी जमानत की शर्तों का उल्लंघन मन गया है. इस कारण वे अब अपनी बाकी की ज़िंदगी भगोड़ा बन कर ही गुज़रेंगे. 

नवाज़ पिछले साल भागे थे लंदन 

नवाज शरीफ 2019 के नवंबर महीने में लंदन भाग निकले थे और उन्होंने उसके लिए सरकार को अपने बीमार होने का झूठा कारण बताया था. उस समय लाहौर हाईकोर्ट ने मेडिकल कारणों से उन्हें चार सप्ताह के लिए विदेश जाने की अनुमति दे दी थी. सत्तर वर्षीय नवाज़ शरीफ लंदन में हैं या किसी और देश में, इसकी भी कोई पुख्ता जानकारी पाकिस्तान के पास नहीं है.

 

दिल की बीमारी बताई गई है 

तीन बार पाकिस्तान के प्रधानमंत्री रहे नवाज़ शरीफ के पाकिस्तानी डॉक्टर्स ने उनको दिल की बीमारी से पीड़ित बताया है और इस आधार पर ही अदालत ने उनको देश से बाहर इलाज कराने की इजाज़त दी थी. उनके डॉक्टर्स ने अदालत को बताया था कि उनके लिए हार्ट की सर्जरी बड़ी जरूरी है.

ये भी पढ़ें. लगभग आधी दुनिया में फ़ैल गई है कोरोना महामारी