ये लो अब रूस ने भी बना लिया अपना खुद का इंटरनेट

रु-नेट नाम है रूस के नेट याने इंटरनेट का जो पहली बार दुनिया में स्थापित और सफलतापूर्वक चालित अमरीकी इंटरनेट को टक्कर देने वाला है..  

ये लो अब रूस ने भी बना लिया अपना खुद का इंटरनेट

मॉस्को. आवश्यकता आविष्कार की जननी है. दुनिया ने कभी इस दिशा में नहीं सोचा जो रूस ने सोचा क्योंकि रूस को आवश्यकता महसूस हुई. उसे लगा कि उसकी सुरक्षा व्यवस्था पर इंटरनेट के कारण सेंध लग सकती है. इस विचार के विरुद्ध अपना खुद का इंटरनेट बना कर सुरक्षाकवच तैयार कर लिया रूस ने. उसने अपनी ख्याति के अनुरूप इन्टरनेट के क्षेत्र में भी अमेरिका को तकनीकी टक्कर दे दी है. 

कई देशों ने की आलोचना

क्या कारण है कि दुनिया के कुछ देशों को रूस की यह तकनीकी अदा पसंद नहीं आई, यह जानना उतना जरूरी नहीं है जितना यह जानना कि उनको रूस की इस बड़ी तकनीकी बढ़त से परेशानी क्या है. इन देशों की एक ही परेशानी समझ में आती है कि उन्हें लगता है कि अगर रूस का अलग इंटरनेट होगा तो वह उनसे कट जाएगा और रूस के साथ व्यापारिक या व्यावसायिक संबंध बनाये रखना मुश्किल हो जाएगा. देखा जाये तो असली बात ये है कि इन देशों को अब रूसी इन्टरनेट से अपनी निजता खतरे में नजक आ रही है. 

रूस के इंटरनेट का अपना उद्देश्य 

रूस ने अपना इंटरनेट सिस्टम बनाया और इसके माध्यम से रूस का उद्देश्य यह देखना था कि  यह देखना था कि उनके देश का नेशनल इंटरनेट सिस्टम RuNet बिना ग्लोबल डीएनएस सिस्टम और एक्सटर्नल इंटरनेट के चल सकता है अथवा नहीं. 

यह है रूस का वैकल्पिक इंटरनेट सिस्टम 

रूस के सरकारी सूत्रों के अनुसार देश में वैकल्पिक इंटरनेट सिस्टम को तैयार करने की दिशा में लगातार काम चल रहा है. इसके लिए किये गए कई टेस्ट सफल रहे हैं. कई दिनों तक टेस्ट रन करने के बाद अब इसे व्यवहारिक तौर पर चालू किया गया है. इस के टेस्टरन में सरकारी एजेंसियों, लोकल इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर्स और लोकल इंटरनेट कंपनियों को शामिल किया गया है.

रूसी इंटरनेट का टेस्ट रन सफल रहा 

रूसी इंटरनेट का यह टेस्ट रन सफल रहा सिर्फ इस बात से ही इसकी सफलता का अनुमान किया जा सकता है कि जब बाहरी इंटरनेट लाइन काट कर रुसी इंटरनेट लाइन जोड़ दी गई तो इस दौरान रूस के इंटरनेट यूज़र्स ने इंटरनेट सिस्टम के इस्तेमाल के दौरान किसी भी तरह का बदलाव महसूस नहीं किया. लोग रोज की तरह ही बिना किसी समस्या के इंटरनेट का को उपयोग में लाते रहे. 

ये भी पढ़ें. महंगाई की मारी अवाम, सिर्फ सपने बेचता 'झूठा इमरान'