दिल्ली दंगे: मुल्ज़िम गुलफिशा ने बताया-DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद थे फसादात के मास्टरमाइंड

इतना ही नहीं गुल ने बताया कि,"प्रोफेसर अपूर्वानंद ने दंगे करवाने के बाद तारीफ की भी थी. कहा था कि अच्छा काम किया है लेकिन पुलिस के पकड़े जाने पर मेरा और पिंजड़ा तोड़ की मेंबर्स का नाम मत लेना.

दिल्ली दंगे: मुल्ज़िम गुलफिशा ने बताया-DU के प्रोफेसर अपूर्वानंद थे फसादात के मास्टरमाइंड
फाइल फोटो.

नई दिल्ली: दिल्ली दंगों को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है. UAPA एक्ट के तहत गिरफ्तार की कई गुलफिशा उर्फ गुल ने बताया है कि डीयू के प्रोफेसर अपूर्वानंद (Apoorvanand) ने दंगों की साज़िश की थी. दंगों के लिए बुर्के वाली ख्वातीन की टीम तैयार की गई थी. गुल के मुताबिक प्रोफेसर अपूर्वानंद ने ही कहा था कि दंगों के लिए तैयार रहो.

इतना ही नहीं गुल ने बताया कि,"प्रोफेसर अपूर्वानंद ने दंगे करवाने के बाद तारीफ की भी थी. कहा था कि अच्छा काम किया है लेकिन पुलिस के पकड़े जाने पर मेरा और पिंजड़ा तोड़ की मेंबर्स का नाम मत लेना. प्रोफेसर ने हमे दंगों के लिए मैसेज दे दिया था जिसके बाद हमने पत्थर, खाली बोतलें, एसिड, छुरियां इकठ्ठा करने के लिए कहा गया था और सभी ख्वातीन को सूखी लाल मिर्च रखने के लिए बोला था. 

गुल ने बताया कि प्रोफेसर अपूर्वानंद ने कहा कि जामिया कॉर्डिनेशन कमिटी (JCC) दिल्ली में 20-25 जगह पर आंदोलन शुरू कर करवा रही है. इन आंदोलन का मकसद हिंदुस्तानी हुकूमत की शबीह को ऐसे पेश करना है जैसे ये मुसलमानों के खिलाफ है. ये तभी होगा जब हम मुज़ाहिरे की आड़ में दंगे करवाएंगे. 

गुल ने आगे बताया कि "हम खुफिया जगह पर मीटिंग करते थे जिसमें प्रोफेसर अपूर्वानंद, उमर खालिद और दीगर मेंबर शामिल होते थे. उमर खालिद ने कहा था कि उसके PFI और JCC से अच्छे राब्ते हैं. पैसों की कमी नहीं है. हम इनकी मदद से मोदी हुकूमत को उखाड़ फेंकेगे. प्रोफेसर अपूर्वानंद को उमर खालिद अब्बा (वालिद) सामान मानता है."  

Zee Salaam LIVE TV