अस्पताल में दाखिल करने से किया इनकार, महिला की सड़क पर हुई मौत, अदनान खान ने की मदद
X

अस्पताल में दाखिल करने से किया इनकार, महिला की सड़क पर हुई मौत, अदनान खान ने की मदद

महिला के पति ने कहा कि जब मैंने डॉक्टर को मेरी पत्नी को एडमिट करने के लिए कहा तो उसने कहा कि वह उन दवाओं के साथ ठीक हो जाएगी जो उसने तय की थी और हमें वापस भेज दिया.

अस्पताल में दाखिल करने से किया इनकार, महिला की सड़क पर हुई मौत, अदनान खान ने की मदद

पीलीभीत: क्रोनिक रीनल बीमारी से पीड़ित एक 55 साल की महिला सड़क पर गिर गई, जिसके बाद उसकी लाश घंटों तक फुटपाथ पर पड़ी रही. महिला के पति के बार-बार फोन करने के बाद भी एम्बुलेंस हेल्पलाइन सेवा से उसे कोई मदद नहीं मिली. शुक्रवार को महिला लूंगश्री ने असहनीय दर्द की शिकायत की थी. जिसके बाद कासिमपुर गांव के रहने वाले किसान दंपति इलाज के लिए पीलीभीत शहर पहुंचे थे.

महिला के पति बृजेश कुमार का कहना है कि चूंकि उसकी हालत बिगड़ रही थी, इसलिए मैं उसे अस्पताल ले आया लेकिन डॉक्टर ने उसकी जांच किए बिना भी कुछ दवाएं लिखीं. जब मैंने डॉक्टर को मेरी पत्नी को एडमिट करने के लिए कहा तो उसने कहा कि वह उन दवाओं के साथ ठीक हो जाएगी जो उसने तय की थी और हमें वापस भेज दिया.

यह भी पढ़ें: नहीं मिली ऑक्सीजन तो मां को मुंह से सांस देने लगी बेटियां, देखिए VIDEO

अस्पताल के पास फुटपाथ पर आखिरकार लुंगश्री की मौत हो गई और उसके पति ने मदद के लिए एंबुलेंस हेल्पलाइन सेवा पर बार बार फोन किए लेकिन उसे कोई जवाब नहीं मिला. पत्नी की मौत के करीब तीन घंटे बाद तक ब्रिजेश लाश के साथ सड़क पर बैठा रहा.

यह भी पढ़ें: क्रिकेट इतिहास की अजीब घटना: वीडियो देखकर आप भी रह जाएंगे हैरान

अदनान खान दोपहर में काम करने के बाद अपने घर जा रहा था. उसने लगभग शाम 5 बजे नौगावा पुल के पास बृजेश को अपनी पत्नी की लाश के साथ वहा बैठा देखा. खान ने बताया,"वह परेशान दिख रहा था. जब मैंने उससे पूछा, तो उसने मुझे बताया कि उसकी पत्नी एक पुरानी गुर्दे की बीमारी से पीड़ित थी और इलाज ना मिल पाने की वजह से उसकी मौत हो गई. बुजुर्ग शख्स ने कहा कि उसने एम्बुलेंस सेवा की हेल्पलाइन पर कई फोन किए, लेकिन कोई मदद नहीं मिली."

यह भी पढ़ें: जानिए, ममता का हाथ छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले उम्मीदवारों का कैसा है हाल

खान ने तब स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन से मदद के लिए संपर्क किया, तब जाकर आखिरकार पुलिस से मदद मिली. सुंगड़ी पुलिस स्टेशन में तैनात सब इंस्पेक्टर अचल कुमार ने आखिरकार अपनी जेब से एक ऑटो रिक्शा का इंतेजाम किया और लाश को कासिमपुर गांव पहुंचवाया.

(इनपुट: आईएएनएस)

ZEE SALAAM LIVE TV

Trending news