close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

सिनेमाघरों के भीतर ले जा सकते हैं बाहर के खाने का सामान, मल्टीप्लेक्स को रोकने का अधिकार नहीं

नियमों के मुताबिक, सिनेमाघरों के भीतर उन खाद्य और पेय पदार्थों को लेकर जाने की इजाजत नहीं है जो मुहर बंद पैकेट में न हो

सिनेमाघरों के भीतर ले जा सकते हैं बाहर के खाने का सामान, मल्टीप्लेक्स को रोकने का अधिकार नहीं
सिनेमाघरों के भीतर भी केवल वहीं सामान बिक सकते हैं जो सीलबंद हो. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: अक्सर आप छुट्टियों के दिन मूवी देखने के लिए मल्टीप्लेक्स जाते हैं. अक्सर शुक्रवार को फिल्में रिलीज होती हैं. हर हफ्ते में तीन दिन- शुक्रवार, शनिवार और रविवार को टिकट की कीमत ज्यादा होती हैं और बाकी चार दिन कीमत कम होती है. मल्टीप्लेक्स जाने वालों की एक शिकायत हमेशा से रही है कि वे बाहर का खाना लेकर अंदर नहीं जा सकते हैं. अगर उन्हें कुछ खाना है तो अंदर से ही खरीदना पड़ता है, जिसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है.

हाल ही में एक RTI सूचना के तहत खुलासा हुआ है कि आप मल्टीप्लेक्स के भीतर बाहर का खाना बिना किसी रुकावट के ले जा सकते हैं. इसके लिए आपको रोकना गैर कानूनी है. उत्तर प्रदेश के वाणिज्य कर कमिश्नर ने RTI का जवाब देते हुए कहा कि मल्टीप्लेक्स संचालकों को ऐसा कोई अधिकार प्रदान नहीं किया गया है जिससे वह बाहर से खाने के खरीदे सामान को अंदर ले जाने से रोक सकें.

ये है भारतीय रेल की 'सुपरहिट' ट्रेन, जल्द विदेशों में मचा सकती है धूम

नियमों के मुताबिक, सिनेमाघरों के भीतर उन खाद्य और पेय पदार्थों को लेकर जाने की इजाजत नहीं है जो मुहर बंद पैकेट में न हो. साथ ही सिनेमाघरों के भीतर भी केवल वहीं सामान बिक सकते हैं जो सीलबंद हो. कॉफी, दूध, चाय जैसी चीजें अंदर नहीं बिक सकती हैं.

Walmart और Amazon को टक्कर देने मुकेश अंबानी रखेंगे E-Commerce की दुनिया में कदम

जितने भी मल्टीप्लेक्स हैं वहां खाने-पीने की चीजें काफी महंगी मिलती है. बाहर से ले गिए किसी भी सामान को सुरक्षा का हवाला देकर अंदर ले जाने से रोक दिया जाता है. अंदर की महंगाई का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि बाहर जितनी पॉपकॉर्न की कीमत 20 रुपये होती है, उतना पॉपकॉर्न अंदर 200 रुपये में बेचे जाते हैं. चूंकि अब GST लागू हो गया है कि इसलिए, सभी खाद्य और पेय पदार्थ  के बिल पर नियम के मुताबिक, GST रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है.