CBI ने रोटोमैक के मालिक कोठारी और परिवार से पूछताछ की

सात राष्ट्रीयकृत बैंकों के 3,695 करोड़ रुपये के कर्ज का भुगतान न करने के मामले में सीबीआई ने बुधवार को अपने मुख्यालय में रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी से पूछताछ शुरू की.

CBI ने रोटोमैक के मालिक कोठारी और परिवार से पूछताछ की

नई दिल्ली : सात राष्ट्रीयकृत बैंकों के 3,695 करोड़ रुपये के कर्ज का भुगतान न करने के मामले में सीबीआई ने बुधवार को अपने मुख्यालय में रोटोमैक कंपनी के मालिक विक्रम कोठारी से पूछताछ शुरू की. अधिकारियों की तरफ से यह जानकारी दी गई. उन्होंने कहा कि इससे पहले कोठारी से कानपुर में पूछताछ की गई थी जहां उनका घर और दफ्तर है. उन्होंने कहा कि कोठारी को एजेंसी ने यहां बुलाया था और इसके बाद मुख्यालय में उनसे पूछताछ शुरू की गई. इसकी वजह के बारे में अधिकारी ने कुछ नहीं बताया. अधिकारियों ने कहा कि कोठारी, उनकी पत्नी साधना और पुत्र राहुल सभी रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड में निदेशक हैं. उन्होंने कथित तौर पर कर्ज में ली गई रकम का उस उद्देश्य से इतर निवेश किया जिसके लिये वह ली गई थी.

18 फरवरी को मामला दर्ज किया गया
उन्होंने कहा कि सात राष्ट्रीयकृत बैंकों के समूह में से एक बैंक ऑफ बड़ौदा ने सीबीआई से कोठारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का अनुरोध किया था क्योंकि उसे डर था कि कोठारी देश छोड़कर जा सकते हैं. शिकायत मिलने के बाद सीबीआई ने 18 फरवरी को मामला दर्ज किया था. शुरुआत में यह आरोप था कि घोटाला करीब 800 करोड़ रुपये का है लेकिन सीबीआई ने जब रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड के खातों की जांच शुरू की तो यह खुलासा हुआ कि कंपनी ने कथित तौर पर बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, इंडियन ओवरसीज बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स से भी कर्ज लिया है.

PNB 'महाघोटाला': मेहुल चौकसी ने बंद की गीतांजलि जेम्स? कर्मचारियों से कहा- 'जाओ घर'

3,695 करोड़ रुपये की हेराफेरी
सीबीआई ने आरोप लगाया कि आरोपियों ने सात बैंकों से 2,919 करोड़ की रकम कर्ज के रूप में लेकर धोखाधड़ी की है. ब्याज की रकम और देनदारियों को जोड़ कर कंपनी के लिये कुल बकाया रकम करीब 3,695 करोड़ रुपये बैठती है. आपको बता दें कि सोमवार तड़के कोठारी के कानपुर स्थित आवास संतुष्टि में जांच के लिए सीबीआई टीम जांच के लिए पहुंची थी.

नीरव-मेहुल की जोड़ी का 'काला खेल', ऐसे 50 लाख में बेचते थे 2000 रुपए का हीरा!

इस बैंकिंग घोटाले का पर्दाफाश ऐसे समय हुआ है जब कारोबारी नीरव मोदी तथा उनके मामा मेहुल चोकसी से जुड़ी, पंजाब नेशनल बैंक की 11384 करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी का पता चला है. अधिकारियों ने कहा कि रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लिमिटेड को 2008 से बैंक आफ इंडिया के नेतृत्व में बैंकों के एक समूह ने 2919 करोड़ रुपये का बैंक लोन दिया था लेकिन भुगतान में बार बार चूक के कारण ब्याज मिलाकर यह राशि बढ़ कर 3695 करोड़ रुपये हो गई. बैंक आफ बडौदा का आरोप है कि कंपनी को 2008 से कर्ज दिया जा रहा था.

बिजनेस से जुड़ी अन्य खबरों के लिए क्लिक करें

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.