close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

नीरव मोदी की चालाकी आई सामने, सच्चाई सामने आने पर CBI और ED के होश उड़े

सीबीआई की ओर से इंटरपोल में आवेदन के लिए जो कागजात तैयार किए गए थे उनमें नीरव दीपक केशवलाल मोदी नाम था. 

नीरव मोदी की चालाकी आई सामने, सच्चाई सामने आने पर CBI और ED के होश उड़े
सीबीआई की ओर से इंटरपोल को रेड कॉर्नर नोट नोटिस जारी करने के लिए अनुरोध भी किया गया है.
Play

नई दिल्ली : फरार हीरा कारोबारी नीरव मोदी को देश वापस लाने के लिए देश की एजेंसियां हर संभव प्रयास कर रही हैं. इसके लिए सीबीआई की ओर से इंटरपोल को एक रेड कॉर्नर नोट नोटिस जारी करने के लिए अनुरोध भी किया गया है. प्रतिष्ठित अखबार इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार देश की दो बड़ी एजेंसियों की एक मामूली चूक के चलते नीरव मोदी को देश लाने के प्रयासों को झटका लग सकता था. अखबार के अनुसार रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए सीबीआई व प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की ओर से जो कागजात तैयार किए गए थे उनमें नीरव मोदी के नाम में अंतर था. समय रहते इस गलती को ठीक कर लिया गया.

सीबीआई की ओर से इंटरपोल में आवेदन के लिए जो कागजात तैयार किए गए थे उनमें नीरव दीपक केशवलाल मोदी नाम था. वहीं ईडी की ओर से तैयार किए गए कागजातों में नीरव केशवलाल दीपक मोदी नाम दर्ज था. इन एजेंसियों की ओर से तैयार कागजातों में नाम के अंतर के कारण नीरव मोदी को देश वापस लाने के प्रयास में काफी समय लग सकता था.

ये भी पढ़ें: 12 जून को नीरव मोदी ने ट्रेन से की लंदन से ब्रसेल्स की यात्रा : CBI सूत्र

 दोनों एजेंसियों की ओर से तैयार किए गए कागजात में नामों में अंतर नीरव मोदी के दो अलग - अलग पासपोर्ट में नामों में अंतर के चलते हुआ. इंटरपोल को आवेदन करने का अधिकार सिर्फ सीबीआई को है. ऐसे में जब ईडी की ओर से सीबीआई को कागजात तैयार कर के आवेदन के लिए भेजे गए तो नामों में अंतर की गलती का पता चला. ऐसे में नीरव मोदी के हाल ही में जारी किए गए पासपोर्ट में दर्ज नाम का ही प्रयोग करने का निर्णय लिया गया. इसी पासपोर्ट पर नीरव मोदी यात्राएं कर रहा है. 

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार इंटरपोल के फांस स्थित लीगल डिपार्टमेंट में रेड कॉर्नर नोटिस के लिए आए आवेदनों की काफी बारी की जांच की जाती है. इसमें पासपोर्ट नम्बर व नाम काफी महत्वपूर्ण होता है. सीबीआई की ओर से बडी सावधानी से आवेदन तैयार किया गया है. हमें पूरी उम्मीद है कि जल्द ही नीवर मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी होगी. 

ये भी पढ़ें: PNB घोटाला: कांग्रेस ने सरकार से पूछा सवाल- बिना पासपोर्ट के नीरव मोदी ने कैसे की यात्रा?

सूत्रों के अनुसार नीवर मोदी के पास छह पासपोर्ट हैं. एक पासपोर्ट के पन्ने भर जाने के बाद दूसरा पासपोर्ट जारी किया गया. इन छह पासपोर्ट में से चार में उनके नाम में अंतर है. एक में नाम नीरव मोदी है वहीं दूसरे में सिर्फ नीरव है. देश की एजेंसियों को उम्मीद है कि रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने के बाद नीरव मोदी के एक देश से दूसरे देश में यात्रा पर रोक लग जाएगी. इसके बाद प्रत्यार्पण की प्रक्रिया को तेज किया जाएगा. 

विदेश मंत्रालय में हाल ही में हुई एक बैठक में एजेंसियों को यह सुझाव दिया गया कि प्रत्यार्पण के लिए आवेदन करने के पहले इंटरपोल के जरिए नीरव मोदी व मेहुल चोकसी का रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने का इंतजार करें. इन दोनों पर पंजाब नेशनल बैंक के लगभग 13 हजार करोड रुपये के फ्राड का आरोप है. इंटरपोल ने हाल ही में देश की एजेंसियों को बताया था कि भारतीय पासपोर्ट रद्द किए जाने के बाद नीरव मोदी मार्च में तीन देशों के बीच चार बार यात्रा कर चुका था. उसने आखरी यात्रा 31 मार्च को लंदन के हेथरो एयरपोर्ट से पेरिस के लिए की थी.