Farmers Protest: दिलजीत के बाद सोनू सूद बोले- 'किसान का दर्जा मां-बाप से कम नहीं'
X

Farmers Protest: दिलजीत के बाद सोनू सूद बोले- 'किसान का दर्जा मां-बाप से कम नहीं'

कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों और सरकार के बीच शनिवार को विज्ञान भवन में हुई पांचवें दौर की बातचीत हुई जो कि बेनतीजा रही. पहले कयास लगाए जा रहे थे कि इस बातचीत से कोई हल निकलेगा लेकिन अफसोस मामला नहीं सुलझा.

Farmers Protest: दिलजीत के बाद सोनू सूद बोले- 'किसान का दर्जा मां-बाप से कम नहीं'

नई दिल्लीः नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा पास किए तीन कृषि कानून बिलों (Agriculture Law) को लेकर पिछले 11 दिनों से किसानों का आंदोलन (Farmers Protest) जारी है. अन्नदाताओं के समर्थन में तमाम नामचीन हस्तियां उतरी हैं. पंजाबी सिंगर दिलजीत दोसांझ के बाद अब बॉलीवुड अभिनेता सोनू सूद ने भी किसानों के सपोर्ट में अपनी आवाज उठाई है. सोनू सूद ने अपने आधिकारिक अकाउंट पर किसानों को मां-बाप का दर्जा दिया है.

ट्वीट को लेकर सोनू को मिल रहीं जबरदस्त प्रतिक्रियाएं
किसानों के समर्थन में अभिनेता सोनू सूद ने लिखा, ''किसान का दर्जा मां-बाप से कम नहीं है...'' सोनू सूद के इस ट्वीट पर लोग खूब कमेंट कर रहे हैं और अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं. यह ट्वीट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. सोनू की पोस्ट पर एक यूजर ने लिखा, ''इसलिए तो आज हाशिए पे है.. मां- बाप की जगह इस देश के नीति-निर्माता उन्हें इंसान ही समझ लें तो ये दुर्दशा ना होती किसानों की..'' हालांकि, कई लोग उन्हें बिल को ठीक से पढ़ने की सलाह भी दे रहे हैं. अभिनेता के ट्वीट पर तमाम लोग उनके मदद की गुहार भी लगा रहे हैं. 

ये भी पढ़ें- Farmers Protest LIVE: किसानों ने 8 दिसंबर को किया 'भारत बंद' का आह्वान, कांग्रेस और TMC ने दिया समर्थ

इसके पहले भी सोनू सूद ने अन्नदाताओं के समर्थन में एक और ट्वीट किया था. इस ट्वीट में सोनू ने लिखा था, ''किसान हैं तो हिंदुस्तान है.'' सोनू के इस ट्वीट पर यूजर्स ने राहुल गांधी के जीजा रॉबर्ट वाड्रा का मजाक उड़ाया और कंगना की आलोचना की. 

LIVE TV

पांचवें दौर की वार्ता में भी नहीं सुलझा मुद्दा
गौरतलब है कि कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों और सरकार के बीच शनिवार को विज्ञान भवन में हुई पांचवें दौर की बातचीत हुई जो कि बेनतीजा रही. पहले कयास लगाए जा रहे थे कि इस बातचीत से कोई हल निकलेगा लेकिन अफसोस मामला नहीं सुलझा. पांचवें दौर की बातचीत में भी किसान तीनों कानून वापस लेने की मांग पर अड़े रहे. सरकार का कहना है कि सरकार कृषि कानून रद्द नहीं करेगी, लेकिन MSP और मंडी पर लिखित आश्वासन देने को तैयार है. अब दोनों पक्षों के बीच अगले दौर की बातचीत 9 दिसंबर को होगी.  वहीं 8 दिसंबर को किसानों ने भारत बंद का आह्वान भी किया है. 

ये भी पढ़ें-Farmers Protest: सरकार की किसानों से अपील, बुजुर्ग और महिलाओं को वापस भेज दें घर

किसानों के समर्थन में भारतीय किसान यूनियन लोक शक्ति ने भी दिल्ली कूच करना शुरू कर दिया है. एक प्रदर्शनकारी ने बताया, "आज हम सभी कालिंदी कुंज बॉर्डर से दिल्ली कूच करेंगे. हम रुकने वाले नहीं हैं, दिल्ली जाकर सरकार से अपनी बात मनवा के रहेंगे."

VIDEO

Trending news