Movie Review: भव्य सेट्स के साथ संजय और अर्जुन की धांसू एक्टिंग ने बनाया 'पानीपत' को दमदार

भारत के इतिहास में 18वीं सदी में हुए एक युद्ध पर आधारित फिल्म यह 'पानीपत (Panipat)' अपने भव्य सेट्स और दमदार एक्टिंग के चलते वाहवाही बटोरने के लिए तैयार है.

Movie Review: भव्य सेट्स के साथ संजय और अर्जुन की धांसू एक्टिंग ने बनाया 'पानीपत' को दमदार

नई दिल्ली: संजय दत्त (Sanjay Dutt), अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) और कृति सेनन (Kriti Sanon) स्टारर और आशुतोष गोवारिकर (Ashutosh Gowariker) द्वारा निर्देशित फिल्म 'पानीपत (Panipat)' सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है. भारत के इतिहास में 18वीं सदी में हुए एक युद्ध पर आधारित यह फिल्म 'पानीपत (Panipat)' अपने भव्य सेट्स और दमदार एक्टिंग के चलते वाहवाही बटोरने के लिए तैयार है. जहां अर्जुन कपूर मराठा के किरदार में हैं और संजय दत्त का अफगानी हमलावर का रूप लोगों को सिनेमाहॉल में सीटियां बजाने पर मजबूर कर रहा है. 

फिल्म में आशुतोष गोवारिकर ने प्लॉट जहां ‘पानीपत’ एक ऐसी एतिहासिक कहानी पर आधारित है जिसे हर बच्चा स्कूल की इतिहास की किताब में पढ़ चुका है. वहीं उनकी सिनेमाई रचनात्मकता स्वतंत्रता ने इस पुरानी कहानी में भी नई जान डाल दी है. फिल्म अपने हर एंगल डायलॉग्स, सेट्स, कॉस्टयूम और कहानी पर परफेक्ट नजर आ रही है. 

अभिनेता- अर्जुन कपूर, संजय दत्त, कृति सैनन
निर्देशक- आशुतोष गोवारिकर
निर्माता- सुनीता गोवारीकर, रोहित शेलताकर

VIDEO: रिलीज हुआ पानीपत का धांसू ट्रेलर, देखकर आप भी कहेंगे- 'हर हर महादेव'!

ऐसी है कहानी:
यह कहानी है अफगानिस्तान के शासक अहमद शाह अब्दाली और मराठाओं के बीच एक जंग की. जिसका नेतृत्व सदाशिवराव भाऊ ने किया था. आशुतोष गोवारिकर की ये कहानी इतिहास के पन्नों को फिर पलटती नजर आती है. जहां सदाशिवराव भाऊ (अर्जुन कपूर) नाम का एक जांबाज मराठा अपने कजिन नानासाहब पेशवा (मोहनीश बहल) की फौज का सेनापति होता है. उदगीर के निजाम की शिकस्त के बाद सदाशिवराव का चुनाव मराठा सेना के प्रमुख के रूप में किया जाता है. जो दिल्ली में अहमद शाह अब्दाली (संजय दत्त) के खिलाफ लड़ने के लिए अपनी आर्मी तैयार करते हैं. क्योंकि दूसरी ओर अहमद शाह अब्दाली भी यह बात पता लगने के बाद नजबी-उद्-दौला के साथ मिलकर मराठाओं के खिलाफ युद्ध के मैदान में उतर जाते हैं. जिसकी वजह है भारत की धरती पर अपनी ताकत को और बढ़ाना. 

लवस्टोरी भी है 
यह फिल्म सिर्फ इतिहास गाथा के साथ आपको उबाऊ और बोझिल नहीं लगती क्योंकि फिल्म में सदाशिवराव और पार्वती बाई की प्रेम कहानी भी नजर आती है जो दर्शकों को कहानी से जोड़े रखती है. दोनों पति-पत्नी का प्यार और आपसी समझ काफी दिलचस्प अंदाज में दिखाई गई है. लेकिन कई बार इस मामले में कहानी जरूरत से ज्यादा खींची गई भी दिखाई देती है. फिल्म का पहला पार्ट जहां थोड़ा धीमा है वहीं दूसरे पार्ट में रोमांच बेहतरीन है. 

संगीत और सेट्स 
फिल्म का संगीत बेहद लाजवाब है वहीं फिल्म की कोरियोग्राफी भी कहानी के अनुसार कमाल की है. फिल्म के भव्य सेट्स मराठा राजाओं की शानोशौकत को बेहतरीन ढंग से पेश करते हैं. फिल्म में कई बड़े-बड़े सीन सामने आते हैं.

कहना गलत नहीं होगा कि 'पानीपत' हमारे प्राचीन इतिहास को जानने के लिए देखी जाने लायक फिल्म है. यह एक ऐसी फिल्म है जिसमें मनोरंजन के साथ-साथ आपको भारतीय इतिहास की ऐसी कई घटनाएं देखने मिलेगी जो कहीं खो सी गई थीं.

बॉलीवुड की और भी खबरें यहां पढ़ें