जब Rani Mukerji की सलाह पर Saif ने करीना को मर्दों की तरह किया था ट्रीट

करीना कपूर (Kareena Kapoor) और सैफ अली खान (Saif Ali Khan) उन कपल्स में से एक हैं, जिनके रिश्ते में इमोशन्स के साथ ही चीजों को लेकर प्रैक्टिकल अप्रोच साफ देखने को मिलती है. इनके रिश्ते से कपल्स कई और भी सबक सीख सकते हैं. 

ज़ी न्यूज़ डेस्क | Nov 30, 2020, 19:33 PM IST

नई दिल्लीः लड़कियां घर से लेकर ऑफिस तक की जिम्मेदारियां अकेले संभालने में सक्षम हैं. उन्हें ऐसे साथी की तलाश होती है, जो उन्हें प्यार और सपोर्ट करने के साथ उन्हें अपनी बराबरी का समझे. बराबरी का रिश्ता क्या होता है, यह हमें बॉलीवुड की सबसे खूबसूरत जोड़ी सैफ और करीना के बीच देखने को मिलती है.

1/7

आदर्श जोड़ी

Ideal couple

करीना और सैफ के बीच अगर प्यार है, तो मजबूत आपसी समझ भी है. यही वजह है कि इस स्टार कपल को कई जोड़े अपना आइडल मानते हैं. 

2/7

सलाह है काम की

suggestion is very useful for the modern age couples

एक बार एक्ट्रेस रानी मुखर्जी ने करीना को लेकर सैफ को सलाह दी थी. उन्होंने कहा था, 'ऐसा मानों की मर्द के साथ रिलेशनशिप में हो.' सैफ ने इसका खुलासा खुद किया था. इसका मतलब था कि वह उन्हें अपने बराबरी का समझें और रिश्ते में जेंडर को हावी न होने दें.

3/7

बराबरी का रिश्ता

equality in relationship

सैफ ने बताया था कि हम आपस में जिम्मेदारियों को इस आधार पर बांटते हैं कि कौन किस काम को ज्यादा बेहतर तरीके से पूरा कर सकता है.

4/7

आपसी सम्मान

mutual respect

सैफ ने बताया था कि रिलेशनशिप में रहते हुए कपल्स को एक-दूसरे के लिए कभी भी असम्मान नहीं जताना चाहिए. यकीन मानिए, एक्टर की यह सलाह जोड़ियों के लिए बेहद काम की है.

5/7

रिश्ता रहेगा बरकरार

relationship will go longer

सैफ अली खान का कहना सही है कि अगर कपल एक-दूसरे का सम्मान करेंगे, तब उनके बीच कभी भी ऐसी स्थिति नहीं आएगी, जिसमें वह एक-दूसरे को तकलीफदेह बात कह सकें.

6/7

रिश्ते में ईमानदारी

Remain faithfull

सैफ अली खान (Saif Ali Khan) के मुताबिक, रिश्ते में ईमानदारी का होना बेहद जरूरी है. साथी के प्रति ईमानदार बने रहना ही रिश्ते की नींव को मजबूत करता है. अगर जोड़े में से कोई एक भी धोखा दे तो रिश्ता फिर कभी भी सामान्य नहीं हो पाता. 

7/7

रिश्ता पहले जैसा नहीं रहता

relation never remains the same

अगर चीटिंग करने वाले पार्टनर को माफ कर भी दिया जाए, फिर भी पहले जैसा विश्वास कायम नहीं हो पाता. इस स्थिति से उनके बीच दूरी बन जाती है, जिसके बाद कपल्स अलग होने का फैसला कर लेते हैं.