Breaking News
  • पीएम नरेंद्र मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने फोन पर बात की, 4 मुद्दों पर हुई बातचीत
  • भारत का मस्तक किसी भी हाल में झुकने नहीं देंगे: Zee News से बोले राजनाथ सिंह
  • प्रधानमंत्री के नेतृत्व पर देश को भरोसा: भारत-चीन विवाद पर Zee News से बोले राजनाथ सिंह
  • लद्दाख में तनाव कम करने को लेकर भारत-चीन के बीच नहीं निकला कोई हल, अगली चर्चा 6 जून को

मजदूरों के मसीहा बने Sonu Sood, पैदल जा रहे श्रमिकों से मांगा उनका मोबाइल नंबर

सोनू सूद ट्विटर के जरिए घर जानें वाले मजदूरों से संपर्क साध रहे हैं और उन्हें घर सकुशल पहुंचाने का वादा कर रहे हैं.

मजदूरों के मसीहा बने Sonu Sood, पैदल जा रहे श्रमिकों से मांगा उनका मोबाइल नंबर
सोनू सूद ( File Photo )

नई दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देशभर में हुए लॉकडाउन से जहां कामकाज ठप है, तो वहीं लॉकडाउन से मजदूरों का बुरा हाल हो गया है, अपने घर जाने के लिए कोई पैदल को कोई ट्रक और ट्रेन से घर पहुंच रहा है. सरकार जहां इन मजदूरों की मदद कर रही हैं तो वहीं बॉलीवुड सितारे भी गरीब और मजदूरों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. सोनू सूद भी दिल खोलकर लोगों की मदद कर रहे हैं. 

सोनू सूद ट्विटर के जरिए घर जानें वाले मजदूरों से संपर्क साध रहे हैं और उन्हें घर सकुशल पहुंचाने का वादा कर रहे हैं. दरअसल बिहार के रहने वाले एक मजदूर ने ट्वीट कर बताया कि वो पास के पुलिस थाने में कई दिनों से चक्कर काट रहे हैं. वो लोग धारावी में रहते हैं और अभी तक उनकी मदद के लिए कोई आगे नहीं आया है. सोनू सूद ने इस मजदूर के ट्वीट पर जवाब देते हुए लिखा, 'भाई चक्कर लगाना बंद करो और रिलैक्स करो, दो दिनों में बिहार में अपने घर का पानी पियोगे, डिटेल भेजो.' 

वहीं एक दूसरे ट्वीट में एक व्यक्ति ने लिखा, 'ईस्ट यूपी में कहीं भी भेज दो सर, वहां से पैदल चले जाएंगे.' सोनू ने इस ट्वीट के जवाब में लिखा, पैदल क्यों जाओगे दोस्त, नंबर भेजो.'

एक ने सोनू सूद के लिए लिखा, 'एक सुषमा स्वराज थीं दो विदेश में फंसे लोगों को भारत ले आईं और एक सोनू सूद हैं जो देश में फंसे मजदूरों को उनके घर भेज रहे हैं. 24 घंटे के लिए मैं अपने प्रोफाइल पर सोनू सूद की फोटो उनके समर्थन के लिए लगा रहा हूं. बहुत बहुत प्यार.' सोनू ने इस ट्वीट पर जवाब दिया,'दिल में प्रोफाइल पिक्चर जिंदगी भर के लिए लगाना 24 घंटे के लिए नहीं.'

आपको बता दें सोनू सूद प्रवासी मजदूरों को घर पहुंचाने के अलावा, कोरोना वॉरियर्स के लिए अपने होटल भी खोल दिए थे और 45 हजार लोगों को हर रोज खाना भी खिला रहे थे. इस संकट की घड़ी में सोनू सूद जिस तरह से मसीहा बनकर आगे आए हैं वो वाकई में कबीले तारीफ है. 

एंटरटेनमेंट की और खबरें पढ़ें 

ये भी देखें-