close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

रेलवे स्टेशन पर 2 साल की उम्र में खो गए थे अमिताभ बच्चन, रो रो कर हुआ था बुरा हाल

रेल यात्रियों को दिए संदेश में बिग बी ने वर्षों पुरानी एक घटना साझा की. उन्होंने बताया कि बचपन में जब वह अम्मा बाबूजी के साथ नाना जी के घर गए थे. तब अगर लोग साथ न देते तो वह खो जाते.

रेलवे स्टेशन पर 2 साल की उम्र में खो गए थे अमिताभ बच्चन, रो रो कर हुआ था बुरा हाल

नई दिल्ली. दो साल का बच्चा अगर स्टेशन की भीड़ में अपने माता-पिता से बिछड़ जाए तो कई बार जीवन भर वह बच्चा दोबारा अपने परिवार से नहीं मिल पाता, बचपन में कुछ ऐसा ही हुआ था बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ. बिग बी ने इस किस्से को मुंबई की लोकल ट्रेन के लापरवाही से सफर करने वाले यात्रियों के बारे में बात करते हुए यह किस्सा सुनाया. हम सभी जानते हैं कि मुंबई की लाइफलाइन लोकल ट्रेंस में आए दिन कई हादसे होते हैं, घर और दफ्तर पहुंचने की जल्दी में अक्सर लोग अपनी जान गवां बैठते हैं.

कई सारी सूचनाएं, होर्डिंग, अनाउंसमेंट के बावजूद भी लोग गलतियां करते हैं और जान गवां बैठते हैं.. ऐसे में बिग बी ने बीड़ा उठाया है, लोगों को से आग्रह किया है कि वह रेल यातायात का सही तरीके से इस्तेमाल करें, अपने साथ रेल संपत्ति को संजोए. इतना ही नहीं बिग बी ने इस संदेश के साथ जुड़ा एक किस्सा साझा किया है जहां उन्होंने 2 साल की उम्र में अपने अम्मा और बाबूजी के साथ किए गए रेल यात्रा का वृतांत साझा किया.

लगा कि अब कभी घर नहीं पहुंच पाउंगा
रेल यात्रियों को दिए गए संदेश में बिग बी ने कई वर्षों पुराना एक घटना साझा की है. बिग बी ने बताया कि जब उनकी उम्र 2 साल की थी वह अपने अम्मा बाबूजी के साथ नाना जी के घर गए थे. वहां से लौटते समय स्टेशन पर उनकी अम्मा, बाबूजी हरिवंशराय बच्चन के हाथ में उनका हाथ थमाकर टिकट लेने चली गई. इसी बीच स्टेशन पर आती जाती रेलगाड़ियों को देखकर वह काफी रोमांचित हो उठे. न जाने कब उन्होंने अपने बाबूजी का हाथ छोड़ कर सीढ़ियों से चढ़कर पुल पर जा खड़े हुए. इसके बाद काफी देर तक आती-जाती ट्रेंस को देखने लगे बाबूजी यानी हरिवंश राय बच्चन को यह लगा. बिग बी अपनी मां के साथ हैं और वह भी टिकट घर की तरफ चले गए. जब वहां हरिवंश राय बच्चन ने टिकट घर पहुंच कर देखा तो बिग बी नहीं थे. 

महादेवी वर्मा ने हरिवंशराय से कहा था - अमिताभ राजनीति में नहीं ठहरेगा?

दोनों काफी हताश परेशान उन्हें ढूंढने लगे अचानक उन्होंने उन्हें किसी ने बताया एक 2 साल का बच्चा पुल पर खड़ा है. उनकी जान में जान आई भागते हुए पहुंचे और गले से लगा लिया. यह भी कहते हैं अपने देश में उन्होंने ट्रेन में काफी सफर किया है लेकिन अब चाह कर भी सफर नहीं कर सकते. उनके साथ काम करने वाले टेक्नीशियन और कलाकार अभी भी ट्रेन से सफर करते हैं और वक्त से पहुंच जाते हैं. बिग बी अपने संदेश में आगे कहते हैं की रेल हमारी संपत्ति है, उसे हमें नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए साथ ही उसका ध्यान रखना चाहिए. इतना ही नहीं बिग बी ने कहा कि हमें हमेशा ट्रेन के सफर के दौरान अपनी जान माल का भी ख्याल रखना चाहिए.

हम सभी जानते हैं कि बिग बी ने जब भी किसी मुद्दे को लेकर लोगों से संवाद साधा है उसका प्रभाव लोगों पर जरूर पड़ा है. चाहे वह पोलियो को लेकर हो या फिर टीबी जैसी बीमारी. जहां लाखों लोग मुंबई की लोकल ट्रेन में रोज सफर करते हैं उनकी जान बचाने का और सही दिशा निर्देश देने का बीड़ा बिग बी ने उठाया है तो उम्मीद है कि इस दिशा में भी उन्हें उन्नति मिलेगी.

बॉलीवुड की और खबरें पढ़ें