Expert Advice: डाइटिंग और एक्सरसाइज के बाद भी कम क्यों नहीं होता वजन, आपके सवाल का जवाब है यहां

एक्सपर्ट डॉ. अबरार मुल्तानी के मुताबिक किसी भी रोग का इलाज करने के लिए उसके पीछे की वजह तलाशना चिकित्सा का पहला सिद्धांत है..

Expert Advice: डाइटिंग और एक्सरसाइज के बाद भी कम क्यों नहीं होता वजन, आपके सवाल का जवाब है यहां
सांकेतिक तस्वीर

कई लोगों को यह चिंता सताती रहती है कि वह डाइटिंग भी सही तरीके से करते हैं और एक्सरसाइज भी, लेकिन फिर भी उनका वजन बढ़ना बंद क्यों नहीं होता. आखिर ऐसी क्या वजह है, जिसके कारण वह वेट लॉस नहीं कर पाते हैं. इस आर्टिकल में हम वजन कम ना हो पाने के कारणों पर बात करेंगे. यह जानकारी आपको हेल्थ एक्सपर्ट डॉ. अबरार मुल्तानी के माध्यम से दी जा रही है. जो कि ‘बीमारियां हारेंगी और 5 पिल्स डिप्रेशन एवं स्ट्रेस से मुक्ति के लिए’ जैसी लोकप्रिय किताबों का लेखन भी कर चुके हैं. आइए जानते हैं कि आखिर डाइटिंग और एक्सरसाइज के बाद भी कुछ लोग अपना मोटापा क्यों नहीं घटा पाते हैं.

ये भी पढ़ें: रेस्टोरेंट में खाना खाने जा रहे हैं तो रहें सावधान, इन जगहों पर हो सकता है कोरोना वायरस

मोटापे और वेट लॉस ना कर पाने के पीछे वजहें
आयुर्वेदिक एक्सपर्ट डॉ. अबरार मुल्तानी ने कहा, "चिकित्सा का पहला सिद्धांत होता है कि रोग को ठीक करने के लिए उसके कारण का पता लगाया जाए. अगर हम रोग होने का कारण पता लगा लेंगे, तो रोग का इलाज करना आसान हो जाता है." उन्होंने कहा कि जो लोग डाइटिंग और खूब एक्सरसाइज कर रहे हैं, लेकिन फिर भी वजन कम नहीं कर पा रहे हैं, तो उन्हें ये समस्याएं हो सकती हैं. जैसे-

1. पीसीओएस या पीसीओएस
जो महिलाएं अपना वजन कम नहीं कर पा रही हैं और मोटापे के साथ मासिक धर्म में अनियमित्ता, मुंहासें और चेहरे पर अनचाहे बाल आ रहे हैं, तो उन्हें पीसीओडी या पीसीओएस (Polycystic Ovary Disorder or Polycystic Ovary Syndrome) की समस्या हो सकती है. इस आम समस्या के कारण महिलाओं के शरीर में मौजूद फीमेल हॉर्मोन असंतुलित हो जाते हैं और ओवरी से हर महीने होने वाले ओवम का उत्पादन भी बिगड़ जाता है और वह ओवरी से ही चिपके रह जाते हैं. इस समस्या की जांच सोनोग्राफी के माध्यम से हो सकती है.

2. थायरॉइड की समस्या
महिलाओं का वजन कम ना होने के पीछे थायरॉइड भी कारण हो सकता है. अगर आपको हाइपोथायरॉइडिज्म है, तो भी आपका वेट बढ़ता रहता है. इस समस्या में मोटापे के साथ मासिक धर्म में अनियमित्तता, शरीर में सूजन, ठंड लगना, जोड़ों में दर्द की समस्या भी हो सकती है.

ये भी पढ़ें: 3 Types of Immunity: तीन तरह की होती है इम्यूनिटी, जानें कौन-सा प्रकार है सबसे ताकतवर

3. दवाओं का सेवन
जिम व डायटिंग करने के बाद भी अगर वजन बढ़ रहा है, तो उसके पीछे आपके द्वारा ली जा रही दवाएं भी हो सकती हैं. कुछ दवाओं के दुष्प्रभाव के कारण शरीर का वजन बढ़ने लगता है. इन दवाओं के सेवन के साथ वेट लॉस होना मुश्किल है. इन दवाओं में गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन, स्टेरॉयड की गोली, मिर्गी के इलाज में दी जाने वाली दवा, एंटी-एलर्जिक दवा आदि शामिल हो सकती हैं. इन दवाओं का विकल्प जानने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें.

4. मानसिक समस्या
आयुर्वेदिक विशेषज्ञ डॉ. मुल्तानी के मुताबिक, मानसिक समस्या के कारण भी आपका वजन कम नहीं हो पाता. तनाव, अवसाद, चिंता, मेंटल ट्रॉमा आदि मानसिक समस्याएं हमारे शरीर के अंदर स्ट्रेस हॉर्मोन का उत्पादन बढ़ाती हैं. जिससे हमें अस्वस्थ आहार या ज्यादा खाने का मन करता है. इसके साथ ही ये हॉर्मोन शरीर में फैट के जमाव में भी भूमिका निभाते हैं. जिससे शारीरिक वजन बढ़ता रहता है. एक्सरसाइज से मानसिक समस्या में राहत तो मिलती है, लेकिन इसके पूर्ण समाधान के लिए हमें चिकित्सक की मदद लेनी चाहिए.

5. गर्भनिरोधक तरीके
डॉ. अबरार मुल्तानी के मुताबिक गर्भनिरोधक दवाओं के सेवन के अलावा कॉन्ट्रासेप्शन मेथड (Contraception Method) भी वजन बढ़ने का कारण बन सकते हैं. पिल्स के अलावा कॉपर टी, ट्यूबेक्टोमी (महिलाओं की नसबंदी), हिस्टेरेक्टॉमी (गर्भाशय निकलवाना) आदि के कारण भी वेट लॉस करने में समस्या आ सकती है.

यहां दी गई जानकारी किसी चिकित्सीय सलाह का विकल्प नहीं है. यह सिर्फ शिक्षित करने के उद्देश्य से दी गई है.

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.