World Cancer Day: इन चीजों का ध्यान रखें, आपको छू भी नहीं पाएगा कैंसर

 कैंसर फैलने को लेकर लोगों में और भी कई गलतफहमियां हैं.

World Cancer Day: इन चीजों का ध्यान रखें, आपको छू भी नहीं पाएगा कैंसर
प्रतीकात्मक तस्वीर....

नई दिल्ली: आज विश्व कैंसर दिवस (World Cancer Day) है. आम धारणा यही है कि कैंसर एक से दूसरे में फैलता है. कैंसर फैलने को लेकर लोगों में और भी कई गलतफहमियां हैं. लेकिन आज के दौर में कैंसर की जानकारी ही इसका बचाव भी हो सकता है. देश के बड़े डाक्टरों का कहना है कि बस कुछ समझदारी और थोड़ा परहेज आपको जानलेवा कैंसर से बचाने में मददगार साबित हो सकता है.

ये वीडियो भी देखें:

धर्मशिला नारायण सुपर स्पेशलिस्ट अस्पताल में ऑन्को सर्जन डॉ. अंशुमन कुमार का कहना है कि कैंसर जेनेटिक नहीं होता. आम तौर पर लोग मानते हैं कि परिवार में किसी एक को कैंसर हुआ तो अन्य सदस्यों को भी हो सकता है. लेकिन असल में मात्र 5-15 प्रतिशत कैंसर मामले ही जेनेटिक कारणों से होते हैं. अगर परिवार के सभी सदस्य एक ही तरह की जीवनशैली और खानापान को फॉलो करते हैं तो सभी को एक ही तरह का कैंसर होने की संभावना है. 

फास्ट फूड है कैंसर की जड़
डॉ. अशुमन ने बताया कि महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर होने का बड़ा कारण फास्ट फूड, तला हुआ और फैटी फूड का सेवन करना है. इस तरह का खाना बच्चों में भी कैंसर की संभावना बढ़ाती है. इसे आप जेनेटिक कैंसर नहीं कह सकते क्योंकि ये संक्रमण गलत खानपान की वजह से पनपता है. 


डॉ. अंशुमन कुमार (ऑन्को सर्जन) -धर्मशिला नारायण सुपर स्पेशलिस्ट अस्पताल

खाने-पीने का रखे ध्यान
कैंसर से बचाव के लिए डाक्टर सबसे ज्यादा लाइफस्टाइल और खाने-पीने की आदत को ही मददगार मानते हैं. डॉक्टरों का कहना है कि रोजाना कम से कम 30 मिनट व्यायाम और खाने में पत्तेदार सब्जियां - सलाद का इस्तेमाल कैंसर को दूर भगा सकता है. इसके अलावा पिज्जा, बर्गर, फ्रेंच फ्राई जैसे खाने की चीजों से दूर रहना सबसे ज्यादा मददगार साबित होगा. बच्चों को कैंसर से बचाने के लिए उन्हें चॉकलेट और फास्टफूड से दूर रखना चाहिए.

महिलाएं अपने कॉस्मेटिक्स का रखें ध्यान
डॉक्टरों की सलाह है कि महिलाओं को कॉस्मेटिक्स खरीदते वक्त उत्पादों की क्वालिटी पर खास ध्यान रखना चाहिए. सस्ते और मुफ्त प्रोडक्ट के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए क्योंकि इन उत्पादों में हानिकारक कैमिकल मिले हो सकते हैं. इन उत्पादों में प्लास्टिक मिला हो सकता है जो शरीर में प्रवेश कर कैंसर का कारण बन सकता है. 

सालाना बॉडी चेकअप बेहद जरूरी
कैंसर से जुड़े डॉक्टरों का कहना है कि 30 की उम्र के बाद हर व्यक्ति को साल में एक बार बॉडी चेकअप जरूर कराना चाहिए. इससे कैंसर के किसी भी खतरे को तुरंत पहचान कर जल्द इलाज किया जा सकता है. देश में अभी भी ज्यादातर कैंसर के मामले काफी देरी से पता चलते है. जब तक कोई कैंसर का मरीज अस्पताल पहुंचता है, कैंसर बहुत ज्यादा फैल चुका होता है. ऐसे में इलाज का खर्च भी ज्यादा होता है और इस अवस्था में बचने की संभावना भी कम रह जाती है.