मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में मैराथन मंथन! केंद्र एवं राज्य प्रायोजित विकास योजनाओं की समीक्षा
X

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में मैराथन मंथन! केंद्र एवं राज्य प्रायोजित विकास योजनाओं की समीक्षा

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को प्रोजेक्ट भवन सभागार में केंद्र एवं राज्य प्रायोजित विकास योजनाओं की समीक्षा की.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के नेतृत्व में मैराथन मंथन! केंद्र एवं राज्य प्रायोजित विकास योजनाओं की समीक्षा

Ranchi: मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जनहित से जुड़ी योजनाओं को लेकर आज मैराथन समीक्षा बैठक की. गुरुवार को लगभग पूरे दिन चली बैठक में सभी विभागों के मंत्री, सचिव के साथ-साथ सभी जिलों के उपायुक्त और एसपी भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये मौजूद रहे. इस दौरान बैठक में विकास योजनाओं की धीमी रफ्तार को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के कड़े तेवर देखने को मिले.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने गुरुवार को प्रोजेक्ट भवन सभागार में केंद्र एवं राज्य प्रायोजित विकास योजनाओं की समीक्षा की. वैसे तो सरकार की विकास योजनाओं को लेकर मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पहले भी वक्त-वक्त पर समीक्षा करते रहे हैं, लेकिन इस बार उनकी मैराथन बैठक से यह साफ हो गया है की वह सिस्टम को चुस्त-दुरुस्त देखना चाहते हैं और इसमें किसी भी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी, लिहाजा गुरुवार कोविभिन्न विभागों से जुड़ी योजनाओं को लेकर हुई समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने कई दिशा-निर्देश दिए.

  • हर किसान के हाथ में किसान क्रेडिट कार्ड सुनिश्चित हो
  • 31 मार्च 2022 तक सभी किसानों को KCC देने का निर्देश
  • पशुधन योजना से ज्यादा से ज्यादा किसान लाभान्वित हों
  • यूरिया और अन्य खाद की उपलब्धता पर फोकस हो
  • कोल्ड स्टोरेज निर्माण कार्य में तेजी लाने के निर्देश
  • सोलर पावर प्लांट्स को बिजनेस मॉडल के रूप में स्थापना के लिए कार्य योजना बनाने का निर्देश 
  • सोलर पावर प्लांट लगाने के लिए लोगों को प्रेरित करने का निर्देश
  • सोलर पावर प्लांट के लिए ज्यादा से ज्यादा भूमि चिन्हित करें
  • मनरेगा की योजना को बेहतर ढंग से लागू करें
  • जॉब कार्ड में उम्र से सम्बंधित जानकारी उपलब्ध कराएं
  • पलाश ब्रांड के उत्पाद को प्रमुखता दें
  • फूलो-झानो योजना के तहत सभी हड़िया दारु बेचने वाली बहनों को जोड़ें
  • त्योहार से पहले वस्त्र योजना से सबको लाभान्वित करें
  • उपायुक्त, प्रखंड और पंचायत स्तर के कार्यों की समीक्षा करें 
  • विद्यार्थियों को समय पर छात्रवृत्ति देना सुनिश्चित किया जाए
  • एकलव्य विद्यालयों के लिए जमीन की उपलब्धता सुनिश्चित करें 
  • मुख्यमंत्री रोजगार सृजन योजना के लंबित आवेदनों का त्वरित गति से निपटारा हो 
  • अवैध खनन को हर हाल में रोकें, ताकि राजस्व का नुकसान ना हो 
  • बिना अनापत्ति वाले दखल-खारिज मामलों को ड्राइव चला कर निपटाएं
  • राजस्व पदाधिकारियों के न्यायालय में लंबित मामलों का प्राथमिकता के आधार पर निष्पादन हो
  • ई-कोर्ट की मॉनिटरिंग हो 
  • भू अर्जन से जुड़े मामलों में लाभार्थियों के बीच मुआवजा का वितरण जल्द किया जाए.

बैठक के बाद मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा की योजनाओं और विभागों के कार्यों की समीक्षा के दौरान कई कमियों को दूर करने का निर्देश दिया गया. कई योजनाओं को पूरा करने की रफ्तार बहुत धीमी है, जिसे दुरुस्त करने को कहा गया. मुख्यमंत्री ने बताया की हर विभाग के पदाधिकारियों के साथ समन्वय बनाते हुए सभी कामों को जल्द पूरा करने का निर्देश दिया गया है. मुख्यमंत्री ने उम्मीद जतायी की अगली बैठक के दौरान हालात में परिवर्तन दिखेगा

वहीं मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक को सत्ता पक्ष की ओर से बेहतरीन पहल बताया जा रहा है. झारखंड सरकार के मंत्री आलमगीर आलम के मुताबिक मुख्यमंत्री ने समीक्षा मीटिंग कर बहुत ही अच्छा काम किया है. इस तरह की मीटिंग बीच-बीच में होती रहेगी तो सभी अधिकारी एक्टिव रहेंगे. योजनाओं की समीक्षा होगी तो डेवलपमेंट भी होगा और सरकार के पैसे का आकलन भी होगा.

ये भी पढ़ें: रांची के कांटाटोली फ्लाईओवर और ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण का रास्ता साफ, हेमंत सोरेन कैबिनेट ने दी प्रस्तावों को मंजूरी

झारखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा की मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक विकास को गति देने वाला साबित होगा. इस समीक्षा बैठक के बाद विकास की योजनाएं तेजी से आगे बढ़ेंगी और रोजगार की दिशा में भी प्रयास तेज होंगे.

वहीं मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की समीक्षा बैठक को लेकर विरोधी दल के अपने तर्क है. बीजेपी के मुताबिक राज्य के सामने आज कई ऐसी चुनौतियों हैं, जिन पर प्राथमिक आधार पर विचार होना चाहिए. बीजेपी प्रवक्ता प्रदीप सिन्हा के मुताबिक बिजली की कमी से उद्योग-धंधे पर असर पड़ रहा है, इस पर चर्चा होनी चाहिए. उग्रवाद फिर से सिर उठा रहा है, पुलिस प्रशासन को अपराधियों से चुनौतियों मिल रही हैं, उसे कैसे खत्म किया जाए, कैसे राज में समरसता बनी रहे, कैसे लोगों को रोजगार दिया जाए, इन सब मुद्दों पर बात होनी चाहिए.

बीजेपी के इस तर्क पर झारखंड सरकार के मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने जवाब देते हुए कहा की विपक्षी दल के पास कोई काम नहीं है. जब जनता ने उन्हें मौका दिया तो वह हाथी उड़ा रहे थे, लोगों को बड़े-बड़े सब्जबाग दिखा रहे थे, लिहाजा जनता ने उन्हें उनकी जगह बता दी. मिथिलेश ठाकुर ने कहा की इस तरह से नकारात्मक राजनीति करने पर बीजेपी विपक्ष में बैठने लायक भी नहीं रह जाएगी.

(इनपुट: कुमार चंदन)

Trending news