UP Assembly Elections 2022: BJP के साथ चुनाव लड़ना चाहती है JDU, KC Tyagi बोले-बात नहीं बनी तो उठाएंगे ये बड़ा कदम

Bihar Politics: केसी त्यागी ने ऐलान किया है कि JDU यूपी के 2022 विधानसभा चुनाव में पूरे दमखम के साथ उतरेगी. उन्होंने कहा जेडीयू (JDU) चुनाव लड़ने के लिए कमर कस चुकी है.

UP Assembly Elections 2022: BJP के साथ चुनाव लड़ना चाहती है JDU, KC Tyagi बोले-बात नहीं बनी तो उठाएंगे ये बड़ा कदम
BJP के साथ चुनाव लड़ना चाहती है JDU. (फाइल फोटो)

Patna: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव (UP Assembly Elections 2022) की तैयारी सभी राजनीतिक दलों ने शुरू कर दी है. इसी क्रम में जनता दल यूनाइटेड ने भी यूपी के चुनावी रण में ताल ठोंकने का ऐलान कर दिया है. पार्टी ने यूपी चुनाव के लिए केसी त्यागी (KC Tyagi) को प्रभारी बनाया है. इस बीच, केसी त्यागी ने ऐलान किया है कि JDU यूपी के 2022 विधानसभा चुनाव में पूरे दमखम के साथ उतरेगी. उन्होंने कहा जेडीयू (JDU) चुनाव लड़ने के लिए कमर कस चुकी है.

उन्होंने बताया कि जेडीयू की पहली प्राथमिकता रहेगी कि एनडीए (NDA)  में रहकर वो चुनाव लड़े और अगर यह गठबंधन नहीं हो पाया तो जेडीयू ने करीब 200 से ज्यादा सीटों पर अपना भाग्य अजमाएगी. वहीं, मुकेश सहनी पर उत्तर प्रदेश प्रशासन की कार्रवाई पर केसी त्यागी ने कहा, 'यह गलत हुआ है. फ्रेंडली पार्टियों को इस तरीके से व्यवहार नहीं करना चाहिए. वाराणसी में मुकेश सहनी (Mukesh Sahani) के साथ जो हुआ है वह गलत हुआ है.'

ये भी पढ़ें- Barabanki Road accident: CM Nitish ने की घोषणा, मृतकों के परिजनों को मिलेगा 2-2 लाख रुपए मुआवजा

इधर, बीजेपी के प्रवक्ता अरविंद सिंह ने कहा कि बिहार में जेडीयू के साथ बीजेपी का गठबंधन है लेकिन वह स्वतंत्र है, कहीं से भी चुनाव लड़ सकती है और इसके पहले भी उन्होंने चुनाव लड़कर देखा है. वहीं, एमएलसी राजन सिंह का कहना है कि उत्तर प्रदेश सरकार के पास पहले से बहुमत है और बीजेपी के पास 300 से ज्यादा विधायक हैं तो उनको अभी फिलहाल किसी गठबंधन की जरूरत नहीं है. जबकि सांसद प्रदीप सिंह ने कहा कि जेडीयू स्वतंत्र पार्टी है और देश में लोकतंत्र है इसलिए कोई भी कहीं भी चुनाव लड़ सकता है. 

दूसरी ओर बीजेपी के प्रवक्ता अरविंद सिंह ने कहा कि मुकेश सहनी एनडीए के नेता हैं, सम्माननीय मंत्री हैं. लेकिन उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) ने कुछ नहीं किया है, बल्कि मूर्ति नहीं लगाने का कोर्ट का आदेश था, इसी के ऊपर कार्रवाई हुई थी.