12वीं की परीक्षा में गुजरात दंगों पर पूछा गया ऐसा सवाल, मचा बवाल; CBSE ने कहा- होगी कार्रवाई
X

12वीं की परीक्षा में गुजरात दंगों पर पूछा गया ऐसा सवाल, मचा बवाल; CBSE ने कहा- होगी कार्रवाई

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने कहा कि पेपर सेट करने वालों के लिए सीबीएसई के दिशानिर्देश स्पष्ट रूप से कहते हैं कि उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि पेपर में सवाल केवल एकेडमिक ओरिएंटेड होने चाहिए और वर्ग-धर्म-तटस्थ होने चाहिए. 

12वीं की परीक्षा में गुजरात दंगों पर पूछा गया ऐसा सवाल, मचा बवाल; CBSE ने कहा- होगी कार्रवाई

नई दिल्ली: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 12वीं क्लास की परीक्षा में गुजरात दंगों को लेकर एक ऐसा सवाल (Question on Gujarat Riots in Class 12 Exam) पूछा गया, जिसको लेकर बवाल हो गया है. मामला सामने आने के बाद सीबीएसई ने इस सवाल को 'अनुचित' और उसके दिशानिर्देशों के खिलाफ बताया है. इसके साथ ही सीबीएसई ने कहा है कि मामले में 'जिम्मेदार व्यक्तियों' के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी.

क्या था सवाल?

सीबीएसई 12वीं की परीक्षा (CBSE 12th Exam) में समाजशास्त्र के प्रश्न पत्र में छात्रों से उस पार्टी का नाम बताने को कहा गया, जिसके कार्यकाल में '2002 में गुजरात में मुस्लिम विरोधी हिंसा' हुई थी. समाजशास्त्र परीक्षा में बहुविकल्पीय प्रश्न (Multiple Choice Questions) पूछा गया-2002 में गुजरात में बडे़ पैमाने पर मुस्लिम विरोधी हिंसा किस सरकार के कार्यकाल में हुई? उत्तर के लिए विकल्प थे- कांग्रेस, भाजपा, डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन.

'जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ होगी कार्रवाई'

सीबीएसई ने एक आधिकारिक बयान में कहा, 'बुधवार को 12वीं कक्षा के समाजशास्त्र की टर्म एक परीक्षा में एक प्रश्न पूछा गया, जो अनुचित है और प्रश्न पत्र तैयार करने के संबंध में बाहरी विषय विशेषज्ञों के लिए सीबीएसई के दिशानिर्देशों का उल्लंघन है. सीबीएसई त्रुटि को स्वीकार करता है और जिम्मेदार व्यक्तियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेगा.'

ये भी पढ़ें- ममता बनर्जी ने बैठकर गाया राष्ट्रगान, फिर बीच में छोड़ दिया अधूरा! BJP नेता ने पुलिस में की शिकायत

प्रश्नपत्र में सवालों को लेकर दिशानिर्देश

सीबीएसई ने कहा कि पेपर सेट करने वालों के लिए सीबीएसई के दिशानिर्देश स्पष्ट रूप से कहते हैं कि उन्हें यह सुनिश्चित करना होगा कि प्रश्न केवल अकादमिक उन्मुख होने चाहिए और वर्ग-धर्म-तटस्थ होने चाहिए. इसके साथ ही ऐसे विषयों को नहीं छूना चाहिए जो सामाजिक और राजनीतिक पसंद के आधार पर लोगों की भावनाओं को नुकसान पहुंचा सकते हैं.

दंगे में गई थी एक हजार से अधिक लोगों की जान

बता दें कि गुजरात में 2002 में गोधरा रेलवे स्टेशन (Godhra Railway Station) के पास साबरमती एक्सप्रेस ट्रेन के दो डिब्बों में आगजनी के बाद राज्य में दंगे भड़क उठे थे. ट्रेन में आग की घटना में 59 हिंदू 'कारसेवक' मारे गए थे. दंगों में एक हजार से अधिक लोगों की जान गई थी.
(इनपुट- न्यूज एजेंसी भाषा)

लाइव टीवी

Trending news