close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राहुल गांधी की ‘न्याय’ योजना को लेकर दिल्ली में कांग्रेस करेगी ‘आय पे चर्चा’

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर देश के 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों में से हर एक परिवार को सालाना 72 हजार रुपये दिए जाएंगे.

राहुल गांधी की ‘न्याय’ योजना को लेकर दिल्ली में कांग्रेस करेगी ‘आय पे चर्चा’
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (फाइल फोटो साभार - @INCIndia)

नई दिल्ली: गरीबों को सालाना 72 हजार रुपये देने के कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के वादे से उत्साहित पार्टी की दिल्ली इकाई ने लोकसभा चुनाव से पहले राष्ट्रीय राजधानी में ‘आय पे चर्चा’ आयोजित करने का फैसला किया है. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने मंगलवार को इसकी घोषणा की.

शीला दीक्षित ने कहा कि पार्टी दिल्ली में विभिन्न स्थानों पर प्रस्तावित न्यूनतम आय योजना (न्याय) पर चर्चा करेगी. आने वाले समय में दिल्ली कांग्रेस अपने इस प्रस्तावित कार्यक्रम का विवरण जारी करेगी. गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने ‘चाय पे चर्चा’ कार्यक्रम का आयोजन किया था.

बता दें, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव से पहले सोमवार को बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि उनकी पार्टी की सरकार बनने पर देश के 20 प्रतिशत सबसे गरीब परिवारों में से हर एक परिवार को सालाना 72 हजार रुपये दिए जाएंगे.

गरीबी पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ है न्यूनतम आय योजना: राहुल
वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि बीजेपी की सरकार ने देश में नोटबंदी और ‘गब्बर सिंह टैक्स’ लागू किया, लेकिन चुनाव के बाद सत्ता में आने पर उनकी पार्टी ‘न्याय’ (न्यूनतम आय योजना) के तहत गरीबों को सालाना 72 हजार रुपये देगी जो गरीबी पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ होगा. राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा,‘उन्होंने नोटबंदी की और गब्बर सिंह टैक्स लागू किया. हम न्याय और वास्तविक जीएसटी देंगे.’

राहुल गांधी ने कहा, 'न्याय गरीबी पर सर्जिकल स्ट्राइक है. इसके तहत 20 फीसदी सबसे गरीब लोगों को सालाना 72 हजार रुपये मिलेंगे.' पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कहा, 'सबसे बड़ी ख़ुशी तो मुझे इस बात की हो रही है की ‘न्याय’ योजना के ज़रिए सालाना 5 करोड़ घरों में महिलाओं के खातों में ₹72000 भेजे जाएंगे.'