Covid-19: मेदांता में ठीक हुए 10 इटली नागरिकों ने बताया अस्पताल का अपना अनुभव

एमिला ने कहा कि 20 दिन के लंबे इलाज के बाद अब वो स्वस्थ्य हो गई हैं और अब अपने देश वापस लौटने की योजना बना रहे हैं.

Covid-19:  मेदांता में ठीक हुए 10 इटली नागरिकों ने बताया अस्पताल का अपना अनुभव
फोटो साभार- MEDANTA

दिल्ली: कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित 10 इतालवी नागरिक इलाज के बाद अब पूरी तरह से ठीक हो गए है. जिसके बाद गुरुग्राम के बीते सोमवार को उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. बता दें कि इटली से आए पर्यटकों के इस ग्रुप में कुल 14 लोग थे. इससे पहले के एक सदस्य ने रिकवर कर लिया था और उसे भी अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया था.

गौरतलब है कि कोरोना वायरस पॉजिटिव आने के बाद इन सभी लोगों को गुरुग्राम के मेदांता अस्पताल में बने आइसोलेशन वार्ड में रखा गया था. जहां डॉक्टरों ने इनका इलाज किय था. फिलहाल मेदांता इस ग्रुप के अन्य तीन लोगों का इलाज जारी है, जिसमें से एक को वंटिलेटर पर रखा गया है. अस्पताल से डिस्चार्ज के बाद एमिला गुसेप्पीना एंटोनेट ने मीडिया को दिए इंटरव्यू में बताया कि उनके शरीर में कोरोना वायरस के कोई भी लक्षण नजर नहीं आ रहे थे. लेकिन हमारे ग्रुप में तीन लोगों की तबीयत खराब थी. उसके बाद हमें अचानक पता लगा कि जांच में कोरोना वायररस पॉजिटिव आया है. 

एमिला ने बताया कि उनके पति का कोरोना निगेटिव आया था जिसके बाद वे अपने देश वापस लौट गए थे. बता दें कि अपने ग्रुप में अंग्रेजी बोलने वाली एमिला इकलौतह महिला थी. बताते चलें कि इतावली पर्यटकों का यह ग्रुप 20 फरवरी को भारत पहुंचा था. इनमें से ज्यादातर की उम्र 60 से 70 वर्ष के बीच है. खास बात ये है कि भारत घूमने आए इस ग्रुप के लोग एक-दुसरे को नहीं जानते थे. 

उन्होंने बताया कि हमें वायरस के बारे में कोई भी जानकारी नहीं थी. भारत आने के बाद पहले ही दिन हमें पता चला कि इटली में वायरस फैल चुका है. उन्होंने बताया कि हमारे एक दोस्त को फ्लू जैसे लक्षण थे लेकिन उसने इटली में डॉक्टर के पास जाने से इंकार कर दिया था क्योंकि उस वक्त वायरस के बारे में कुछ नहीं पता था. उन्होंने आगे कहा कि मुझे ये सोचकर दुख होता है कि हम वायरस यहां ले आए.

एमिला ने कहा कि 20 दिन के लंबे इलाज के बाद अब वो स्वस्थ्य हो गई हैं और अब अपने देश वापस लौटने की योजना बना रहे हैं. इटली में ऐसे हालात होने के बावजूद हम वहां जाना चाहते हैं. हालांकि 31 मार्च तक भारत से सभी अंतर्राष्ट्रीय उड़ाने रद्द कर दी गई हैं. एमिला कहती है कि मेरे पति बहुत चिंतित थे. हालांकि मैंने उन्हें बताया कि हमारा इलाज बहुत अच्छे ढंग से हो रहा है और यहां के डॉक्टर बहुत प्रोफेशनल हैं तो वह आश्वस्त हो गए. डॉक्टरों ने हमारा मनोबल बढ़ाया और यह बहुत ही अहमियत रखता है.

मेदांता अस्पताल की डॉक्टर यतीन मेहता और डॉक्टर सुशीला कटारिया की टीम इन सभी 14 इटली के वायरस प्रभावित मुसाफिरों का इलाज दिन-रात कर रहे थे. स्पेशल बोर्ड से निकलते ही इन तमाम मुसाफिरों ने ना ही सिर्फ डॉक्टरों की टीम के प्रति अपना आभार व्यक्त किया ब्लकि उनके चेहरे की मुस्कान और हाव-भाव उनकी खुश बयां कर रहे थे. सिलविया समेत इटली के सैलानियों का कहना है कि भारत में जो सम्मान इन्हें मिला और जिस इलाज से इनकी जान बची उसे वह कभी भूल नहीं पाएंगे.

ये भी पढे़ं:- दिल्ली पुलिस कर सराहनीय कदम,  लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों को बांट रही राशन