दिल्ली के मीडिएशन सेंटर को भी बनाएंगे रोल मॉडल: अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि DDRS ने दस साल में काफी कुछ किया है. दस साल में देश में मीडिएशन सेंटर खोलने की कई कोशिश हुई लेकिन अन्य राज्यों में मीडिएशन सेंटर सब बंद हो गए. 

दिल्ली के मीडिएशन सेंटर को भी बनाएंगे रोल मॉडल: अरविंद केजरीवाल

नई दिल्ली: जिस तरह से दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिक दुनिया के लिए मॉडल बन गए हैं, उसे तरह दिल्ली के मीडिएशन सेंटर को भी दुनिया में रोल मॉडल बनाएंगे. जिससे लोगों के आपसी विवाद का निपटारा बगैर पैसा खर्च हुए व समय बर्बाद हुए हो सके. पूरे भारत में मीडिएशन सेंटर खोले गए लेकिन हर जगह सेंटर एक-दो साल चलकर बंद हो गए. जबकि दिल्ली में मीडिएशन सेंटर ने दस साल पूरे कर लिए. साथ ही लोगों का विश्वास इसमें इतना बढ़ा कि आज हम 6 नए मीडिएशन का उद्घाटन कर रहे हैं. यह बात दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली डिस्प्यूट रिज्योल्यूशन सोसायटी(DDRS) के स्थापना के दस साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान कहीं.

साथ ही उन्होंने छह नए सेंटर का उद्घाटन भी किया. इस दौरान कानून मंत्री कैलाश गहलोत. जस्टिस मदन लाल मेहता (चेयरमैनDDRS), जस्टिस मदन डी लोकूर व मुख्य सचिव विजय कुमार देव भी मौजूद थें. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि DDRS ने दस साल में काफी कुछ किया है. दस साल में देश में मीडिएशन सेंटर खोलने की कई कोशिश हुई लेकिन अन्य राज्यों में मीडिएशन सेंटर सब बंद हो गए.

लेकिन दिल्ली में इसने कई सफलता प्राप्त की. दिल्ली के लोगों को इसके लिए बधाई. आज हम छह सेंटर खुल रहे हैं. दिल्ली में सेंटर बंद नहीं हो रहे, सेंटर खुल रहे हैं. सीएम ने कहा मीडिएशन सेंटर से मुझे गांधी जी के जीवन की एक घटना याद आती है. वह वकील थें. साउथ अफ्रीका के फार्म में वह नौकरी कर रहे थें. उन्हें पहला केस मिला.

केस बहुत बड़े आदमी का था. गांधी जी ने केस में दोनों पार्टी को बैठाकर समझौता करा दिया. फार्म नाराज हो गया, उसे केस चलने से बहुत पैसा मिलने वाला था. मीडिएशन सेंटर भी इसी कांसेप्ट पर हैं,  यह  बहुत पावरफूल आइडिया है. दिल्ली ने मोहल्ला क्लीनिक को दुनिया के लिए माडल बनाया. हम शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्र में माँडल बने हैंं. 

हम मीडिएशन में ऐसा काम करेंगे कि दुनिया में माडल बनेगा. इससे लोगों को तत्काल जस्टिस भी मिलेगा. इसको जितना बढ़ावा दें, उतना बेहतर है. कोर्ट में एक व्यक्ति केस हारता है, दूसरा जीतता है. मीडिएशन सेंटर में दोनों जीतते हैं. सालों केस नहीं चलता. खर्च नहीं होता. दिल्ली के मीडिएशन सेंटर में 33 हजार केस सुलझे हैं. यह बहुत बड़ी सफलता है. इसे अगले साल और प्रमोट भी करेंगे. हम अपना संस्थान बढ़ाएंगे. सोसायटी में आ रही समस्या को दूर करेंगे.

दिल्ली डिस्प्यूट रिज्योल्यूशन सोसायटी के स्थापना के दस साल
दिल्ली डिस्प्यूट रिज्योल्यूशन सोसायटी के स्थापना 27 नवंबर 2009 को हुई थी.  अभी 10 मीडिएशन सेंटर है.  आज 6 सेंटर खुल गए है. इसमें अब तक कुल 75 हजार केस आए, 33 हजार केस सुलझ गए.  सफलता का प्रतिशत 44  है. दुनिया के हिसाब से यह आंकड़ा बहुत बेहतर है. कोर्ट में केस 3-7 साल में सुलझते हैं. डीडीआरएस में एक से सवा माह में सुलझ जाते हैं.