close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बढ़ते प्रदूषण से दिल्लीवालों का हाल बेहाल, मास्क का प्रयोग भी नाकाफी

स्थिति की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली -NCR में निर्माण कार्य पर भी 10 नवंबर तक रोक लगाई जा चुकी है.

बढ़ते प्रदूषण से दिल्लीवालों का हाल बेहाल, मास्क का प्रयोग भी नाकाफी
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली में बढ़ते प्रदूषण ने आम लोगों का जीना मुहाल कर दिया है. इस बढ़ते प्रदुषण को देखते हुए राजधानी में दिल्ली सरकार के अलावा केन्द्र सरकार और अस्पतालों ने भी जरुरी तैयारियां की है. साथ ही केंद्र सरकार ने भी वायु प्रदूषण के नियमों का उल्लंघन करने वालों पर भी सख्त कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है. स्थिति की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली -NCR में निर्माण कार्य पर भी 10 नवंबर तक रोक लगाई जा चुकी है.

देश की धड़कन कहे जाने वाले राजधानी दिल्ली के हर इलाकों में रहने वाले लोग आंखों में जलन, सीने में दर्द जैसी शिकायतों के साथ हॉस्पिटल भी पहुंच रहे हैं. जिसको देखते हुए दिल्ली के AIIMS, सफदरगंज सरीखे अस्पतालों ने इस स्थिति से निपटने के लिए जरूरी तैयारियां कर रखी है.

शनिवार को केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने भी अधिकारियों के साथ बैठक कर वायु प्रदूषण के लागू नियमों का उल्लंघन करने वालों पर भी सख्त कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है और इसपर रोकथाम के लिए जरुरी कदम उठाने का भी अधिकारियों को निर्देश दिया है. जबकि मौसम विभाग ने भी बढ़ते वायु प्रदूषण को लेकर चेतावनी जारी कर रखी है.

वैसे विशेषज्ञ इस बढ़ते प्रदूषण का कारण जाड़े के मौसम में ज्यादा हवा नहीं चलना भी बता रहे है. इस स्थिति को देखते हुए लोगों को मॉर्निंग वॉक से बचने को कहा जा रहा है. खासकर गर्भवती महिलाओं, अस्थमा पीड़ित और बुर्जुगों को घर में रहने की सलाह दी गई है.

इस जहरीले प्रदूषण से बचाव के लिए जरुरी कदम उठाने के बाबत जी न्यूज से बातचीत में ईएनटी के विशेषज्ञ डॉ. योगेश जैन बताते हैं , 'इस प्रदुषण से पूरी तरह बचने का कोई उपाय नहीं है, लेकिन बचाव के लिए दिल्ली के लोग अपने कमरे में एयर प्यूरीफायर लगा सकते हैं. वहीं घर से बाहर जाने के दौरान एक्स्ट्रा टियर्स वाले मॉयसचरिंग ड्रॉप्स का भी प्रयोग कर सकते हैं.' 

लेकिन प्रदूषण से बचाव के लिए डॉ. योगेश जैन मास्क के प्रयोग को नाकाफी बताते हैं. जैन का कहना है कि ज्यादातर मास्क 30 मिनट के अंदर खराब हो जाते हैं.

वैसे दिल्ली के कई इलाकों में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए सार्वजनिक परिवहन सेवाओं के प्रयोग की भी सलाह भी दी जा रही है. राजधानी में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए दिल्ली के आम लोग इस समस्या से निपटने के लिए सारे दिल्ली वालों को एकसाथ आकर इस समस्या से निपटने के लिए मिल कर निदान ढ़ूंढ़ने की बात कह रहे हैं.

साउथ दिल्ली के ग्रेटर कैलाश की रहने वाली मीनाक्षी प्रियदर्शिनी का कहना है , ' अपनी प्यारी दिल्ली को सुरक्षित रखने के लिए सभी को साथ मिलकर सोचना चाहिए. एक नागरिक के रुप में हमारा कर्तव्य और दायित्व भी इस महानगर के प्रति है.'