close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

AAP के पूर्व नेता एच एस फुलका को सम्मानित करेंगे राजनाथ सिंह

फुलका को पिछले तीन दशक से अदालत में 1984 के सिख विरोधी दंगों के पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने के लिए सम्मानित किया जाएगा.  

AAP के पूर्व नेता एच एस फुलका को सम्मानित करेंगे राजनाथ सिंह
एच एस फुलका (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह आम आदमी पार्टी (आप) के पूर्व नेता एच एस फुलका और कार्यकर्ता शायरा बानू को एक कार्यक्रम में सम्मानित करेंगे.
फुलका को पिछले तीन दशक से अदालत में 1984 के सिख विरोधी दंगों के पीड़ितों का प्रतिनिधित्व करने और बानू को तीन तलाक के खिलाफ लड़ाई लड़ने के लिए सम्मानित किया जाएगा. यह कार्यक्रम केंद्रीय मंत्री विजय गोयल के आवास अशोका रोड पर आयोजित होगा. 

गोयल ने बताया, 'सिख विरोधी दंगा मामले की लंबी कानूनी लड़ाई लड़ने के लिए फुलका को और तीन तलाक को अदालत में चुनौती देने वाली शायरा बानू को गृहमंत्री राजनाथ सिंह सम्मानित करेंगे.' 

शायरा बानू ने उच्चतम न्यायालय से तीन तलाक को खत्म करने के लिए संपर्क किया था. अपने मौलिक अधिकारों का हवाला देते हुए वह इस पर्सनल कानून को चुनौती देने वाली पहली मुस्लिम महिला थी. 

फुलका ने इस महीने की शुरुआत में छोड़ दी थी आप
फुलका ने इस महीने की शुरुआत में बिना कारण बताए आप से इस्तीफा दे दिया था. वह गोयल से उनके जन्मदिन पर चार जनवरी को भी शुभकामनाएं देने के लिए मिले थे. ऐसी संभावना जताई जा रही थी कि वह बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. 

फुलका आप से इस्तीफा देने की वजहों के बारे में बात करने से इनकार करते रहे हैं. उन्होंने पंजाब में मादक पदार्थ के खतरों से लड़ने और शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) के राजनीतिकरण के खिलाफ गैर-राजनीतिक संगठन बनाने की इच्छा जाहिर की थी.

हालांकि फुलका आप और कांग्रेस के बीच किसी भी तरह के गठबंधन के विरुद्ध थे. हालांकि दोनों पार्टियों के बीच चुनाव से पूर्व गठबंधन की बात चल रही है जबकि दोनों ही आधिकारिक तौर पर इससे इंकार कर रहे हैं. 

सूत्रों का दावा है कि राजीव गांधी से भारत रत्न छीनने की मांग पर आम आदमी पार्टी के रुख से भी फुलका नाराज थे. फुलका ने अपने अगले राजनीतिक कदम की घोषणा नहीं की है. हालांकि उन्होंने साफ कहा है कि वह अगला लोकसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे. 

(इनपुट - भाषा)