close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आसमान में इंडिगो और एयरफोर्स प्लेन के बीच रह गई थी सिर्फ 300 फीट की दूरी, अलार्म नहीं बजता तो...

पायलट की सूझबूझ के चलते चेन्नई के आसमान में एक बड़ा हादसा होने से बच गया. 

आसमान में इंडिगो और एयरफोर्स प्लेन के बीच रह गई थी सिर्फ 300 फीट की दूरी, अलार्म नहीं बजता तो...
रेजोल्यूशन एडवाइजरी वॉर्निंग ने बचाई यात्रियों की जान (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पायलट की सूझबूझ के चलते चेन्नई के आसमान में एक बड़ा हादसा होने से बच गया. यदि सही समय पर पायलट अपनी सूझबूझ का परिचय नहीं देता तो कई यात्रियों की जान जा सकती थी. जानकारी के मुताबिक, पिछले सप्ताह इंडिगो का प्लेन और इंडियन एयरफोर्स का जेट आमने-सामने आ गए थे. वे एक-दूसरे से महज 300 फीट की दूरी पर थे जब इंडिगो विमान की आरए (रेजोल्यूशन एडवाइजरी) वॉर्निंग ऑन हो गई. वॉर्निंग देखते ही पायलट प्लेन को मोड़ते हुए उसे सुरक्षित दूरी पर ले गया, जिससे दोनों विमान टकराने से बच गए.

रेजोल्यूशन एडवाइजरी वॉर्निंग से टला हादसा
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ये घटना 21 मई की है. जब दोनों विमान एक-दूसरे के 300 फीट तक करीब आ गए थे. रेजोल्यूशन एडवाइजरी के एक्टिव हो जाने से इस हादसे को होने से रोका जा सका. इस घटना की इंडिगो की ओर से पुष्टि कर दी गई है. साथ ही डीजीसीए (वायु सुरक्षा निदेशक कार्यालय) को इसके बारे में सूचना दे दी गई है. हालांकि, वायुसेना की ओर से फिलहाल इस मामले में कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.

नशे में धुत लड़कों ने IndiGo की महिला कर्मी से की बदसलूकी, पैरों में गिर मांगनी पड़ी माफी

24,000 फीट की ऊंचाई पर थे विमान
सूत्रों के अनुसार, विशाखापट्टनम-बेंगलुरु रूट पर ऑपरेट होने वाली इंडिगो एयरबस ए320, 21 मई को उड़ाने भरने के बाद चेन्नई के आसमान में ऊंचाई पर जाते हुए 24,000 फीट तक पहुंची थी. इस दौरान प्लेन की रेजोल्यूशन एडवाइजरी वॉर्निंग ऑन हो गई. पायलट तुरंत हरकत में आया और प्लेन को सुरक्षित दूरी पर ले गया. बाद में सामने आया कि प्लेन से महज 300 फीट की दूरी पर वायुसेना का जेट आ गया था. समान ऊंचाई पर दो विमान आमने-सामने कैसे आ गए इसकी जांच की जा रही है.

VIDEO: IndiGo एयरलाइन्स के कर्मचारियों ने की यात्री से मारपीट

घटना के तुरंत बाद प्रोटोकॉल के तहत इंडिगो की ओर से वायु सुरक्षा निदेशक कार्यालय को इसकी जानकारी दे दी गई. डीजीसीए ने मामले को संज्ञान में लेते हुए इसकी जांच शुरू कर दी है.