close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जामा मस्जिद के इमाम ने राहुल गांधी को लिखा पत्र, 'मुसलमानों की सुरक्षा के लिए सरकार पर बनाएं दबाव'

अहमद बुखारी ने लिखा है, जो हाल मौजूदा दौर में मुसलमानों का है वैसा पिछले 7 दशकों में नहीं हुआ. मॉब लिंचिग के नाम पर 64 मासूम मुसलमानों को मार दिया गया है.

जामा मस्जिद के इमाम ने राहुल गांधी को लिखा पत्र, 'मुसलमानों की सुरक्षा के लिए सरकार पर बनाएं दबाव'
दिल्ली के जामा मस्जिद की शाही इमाम अहमद बुखारी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पत्र लिखकर देश में मुस्लिमों पर हो रहे हमले पर चिंता जताई है.

शोएब रजा, नई दिल्ली: दिल्ली की जामा मस्जिद के शाही इमाम अहमद बुखारी ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को पत्र लिखा है. पत्र में उन्होंने आरोप लगाया है कि मौजूदा वक्त में मुस्लिमों पर हमले हो रहे हैं. अहमद बुखारी ने लिखा है, जो हाल मौजूदा दौर में मुसलमानों का है वैसा पिछले 7 दशकों में नहीं हुआ. मॉब लिंचिग के नाम पर 64 मासूम मुसलमानों को मार दिया गया है. उन्होंने राहुल गांधी से सवाल पूछा है कि सरकार जो सलूक उनके साथ कर रही है, उसपर वे चुपर क्यों हैं. क्या वे मुस्लिमों पर अत्याचार की घटनाओं पर चुप्पी साधे रहेंगे.

बुखारी ने आरोप लगाया है कि इस वक्त देश में जिस तरह का माहौल है उसमें मुसलमानों का कारोबार करना मुश्किल हो गया है. मुसलमान टोपी पहनने और दाढ़ी रखने से कतरा रहे हैं. उनके जान-माल को हमेशा खतरा बना हुआ है. बुखारी ने राहुल गांधी से कहा है कि वे मुस्लिमों की सुरक्षा के लिए सत्ता पक्ष पर दबाव बनाएं. ताकि इस देश में मुसलमान पहले की तरह निर्भीक होकर रह पाएं. 

Shahi Imam Maulana Syed Ahmed Bukhari

मालूम हो कि हाल ही में राहुल गांधी ने मुस्लिम नेताओं से मुलाकात की थी. इसके बाद एक उर्दू अखबार ने कथित तौर पर लिखा था कि मुलाकात के दौरान राहुल गांधी ने कांग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी बताया था. हालांकि विवाद बढ़ने पर कांग्रेस की ओर से सफाई आई थी, जिसमें स्पष्ट कहा गया था कि राहुल गांधी के बयान को गलत शब्दों में प्रकाशित किया गया.

हालांकि इस पूरे विवाद के बाद राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा था कि कांग्रेस सभी लोगों की पार्टी है. यह पार्टी जाति, धर्म और संप्रदाय के नाम पर भेदभाव नहीं करती है. बीजेपी के नेता लगातार आरोप लगाते हैं कि कांग्रेस और राहुल गांधी मुस्लिमों की हिमायती पार्टी है. 

खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने भाषणों में राहुल गांधी का नाम लिए बिना कह चुके हैं कि कुछ लोग छुप-छुपाकर मुलाकात करते हैं. दरअसल, मुस्लिम नेताओं से राहुल गांधी की मुलाकात को पहले कांग्रेस नकारती रही, बाद में बीजेपी की ओर से बयान आने के बाद इसे स्वीकार लिया गया था.