Breaking News
  • #ImmunityConclaveOnZee : केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक ने कहा कि कोरोना की दवा पर शोध जारी है.
  • #ImmunityConclaveOnZee : श्रीपद नाइक ने कहा - 6-7 सप्ताह में शोध पूरा हो जाएगा.
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '8 बजे नाश्ता, 12 बजे दोपहर का खाना, शाम को 8 बजे तक खाना खा लें'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, 'भगवान ने हमें इंसान बनाकर दुनिया की सबसे बड़ी दौलत दी है'
  • #ImmunityConclaveOnZee : स्वामी रामदेव बोले, '6 घंटे की नींद जरूर पूरी करें और उससे ज्यादा सोएं भी नहीं'

Lockdown: फैट्री मालिक ने नौकरी से निकाला, सूरत से पैदल चलकर बांदा पहुंची गर्भवती महिला

महिला ने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से 24 मार्च (मंगलवार) की शाम लॉकडाउन की घोषणा के बाद फैक्ट्री मालिक ने सभी मजदूरों को फैक्ट्री से बिना पगार दिए ही निकाल दिया था. 

Lockdown: फैट्री मालिक ने नौकरी से निकाला, सूरत से पैदल चलकर बांदा पहुंची गर्भवती महिला
लॉकडाउन के बाद सूरत शहर का नजारा. (फाइल फोटो)

बांदा: कोरोना (Coronavirus) के चलते देशभर में हुए लॉकडाउन ने गरीब मजदूरों की कमर तोड़ दी है.  गुजरात के सूरत में मजदूरी कर रही सात माह की गर्भवती महिला सैकड़ों किलोमीटर की पैदल यात्रा करके अपने दो साल के बच्चे के साथ बांदा जिले के अपने गांव पहुंची है. 

बांदा से सूरत की सड़क मार्ग की दूरी 1,066 किलोमीटर है. यह महिला अपने पति के साथ गुजरात के सूरत की एक निजी फैक्ट्री में मजदूरी करती थी, इसके दो साल का एक बच्चा भी है.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस ने ली पद्म श्री से सम्मानित शख्स की जान, विदेश दौरे से लौटे थे भाई निर्मल सिंह

बांदा जिले के कमासिन थाना क्षेत्र के भदावल गांव की रहने वाली महिला ने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से 24 मार्च (मंगलवार) की शाम लॉकडाउन की घोषणा के बाद फैक्ट्री मालिक ने सभी मजदूरों को फैक्ट्री से बिना पगार दिए ही निकाल दिया था. कोई विकल्प न होने पर रेल पटरी के सहारे दो साल के बच्चे को गोद में लेकर हम पैदल ही चल दिए थे. रास्ते में भगवान के अलावा किसी ने मदद कोई नहीं की."

उसने बताया कि "गांव तो बहुत मिले, जहां पीने के लिए पानी और खाने के लिए थोड़ा गुड़ गांव वाले दे देते रहे हैं." महिला ने कहा कि "गुरुवार तड़के सूरत से चले थे और (मंगलवार) सुबह बांदा पहुंच पाए हैं. इतने दिन के सफर में कई बार एंबुलेंस को फोन किया, लेकिन नहीं मिली." 

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र में कोरोना का कहर: अब तक सामने आए 338 मामले, 16 लोगों की मौत

बांदा जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमएस) डॉ. संपूर्णानंद मिश्रा ने बताया कि "यह दंपत्ति मंगलवार बांदा आ पाया है, ट्रॉमा सेंटर में प्राथमिक जांच के बाद इन्हें एंबुलेंस से उनके गांव भदावल भेज दिया गया है. जहां ये अपने घर में 14 दिन तक एकांत में रहेंगे."

LIVE TV