प्याज के बाद अब हरी सब्जियों के बढ़े भाव, टमाटर हुआ लाल और मिर्च हुई तीखी

लॉकडाउन और बारिश के चलते सब्जियों के दाम आसमान छू रहे है. आलू-प्याज जहां 40 रुपये तो टमाटर 60 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है. 

प्याज के बाद अब हरी सब्जियों के बढ़े भाव, टमाटर हुआ लाल और मिर्च हुई तीखी
फाइल फोटो

भोपाल: सब्जियों की कीमतें पिछले एक महीनों में दोगुना बढ़ चुके है. लोगों की थाली से हरी सब्जियां गायब हो रही है. वैसे तो हर साल बारिश में हरी सब्जियां महंगी होती है. लेकिन आलू, टमाटर और प्याज की कीमतें इस बार बढ़ने से लोगों की चिंता और बढ़ गई है.

बता दें कि कोरोना काल में लोगों की आमदनी घटी है, रोजगार में कमी हुई है. ऊपर से सब्जियों की बढ़ी कीमत ने आम जनता को परेशान करके रख दिया है. लॉकडाउन और बारिश के चलते सब्जियों के दाम आसमान छू रहे है. 

जो कर रहे हैं आत्महत्याएं,क़र्ज़ से हैं परेशान,जिन पर नहीं है किसी का ध्यान,BJP-कांग्रेस की नैया पार लगाएंगे वही किसान

सब्जियों की कीमतों पर नजर
हरी सब्जियों ने लोगों का बजट बिगाड़ दिया है. राजधानी में पिछले एक माह से सब्जी के भाव में काफी बढ़ोतरी हुई है. आलू-प्याज जहां 40 रुपये तो टमाटर 60 रुपये प्रतिकिलो बिक रहा है. वहीं अदरक 60 रुपये से 100 रुपये तक बिक रहा है. जबकि हरा धनिया 120 रुपये से 250 तक मिल रहा है. हरी सब्जियों की कीमत कुछ इस तरह है.

- भिंडी 30 रुपये से बढ़कर 60 रुपये प्रतिकिलो

- फूल गोभी 40 रुपये से 50 से 80 रुपये तक

- हरी मिर्च 80 रुपये से 100 रुपये तक

- गिलकी 30 रुपये से बढ़कर 60 रुपये  तक

- लौकी की 10 रुपये से 40 तक

- कद्दू 15 रुपये 40 रुपये तक

बदनावर में आमने-सामने हुए प्रत्याशी, लगे बीजेपी प्रत्याशी दत्तीगांव गद्दार के नारे

 

बारिश के वजह से बड़े दाम
व्यापारियों का कहना है कि अधिक बारिश के कारण स्थानीय स्तर पर फसल खराब हो गई थी. ऐसे में दूसरे प्रदेशों से सब्जी आ रही है. सब्जियों के मांग की तुलना में आवक कम हुई है इसलिए भाव बढ़े हुए है. 

WATCH LIVE TV