close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

छत्तीसगढ़ः महिला सरपंच की बेटी को घर में घुसकर जिंदा जलाया, 70 प्रतिशत झुलसी नाबालिग

बच्ची को आग में लिपटा देख घर के लोगों ने चीख-पुकार मचा दी, जिसके बाद बच्ची को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया.

छत्तीसगढ़ः महिला सरपंच की बेटी को घर में घुसकर जिंदा जलाया, 70 प्रतिशत झुलसी नाबालिग
(प्रतीकात्मक तस्वीर)
Play

बेमेतराः छत्तीसगढ़ के बेमेतरा से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है, जहां किसी ने महिला दिवस पर महिला सरपंच के घर में घुसकर 10 साल की बच्ची पर केरोसिन डालकर जिंदा जलाने की कोशिश की है. मिली जानकारी के मुताबिक, घटना जिले के बेरला थाना के सांकरा गांव की है, जहां 8 मार्च को कोई चुपके से महिला सरंपच के घर दाखिल हुआ और 10 साल की बच्ची पर पीछे से केरोसिन उड़ेल कर माचिस से आग लगा दी. जिससे बच्ची करीब 70 प्रतिशत झुलस गई है. बच्ची को आग में लिपटा देख घर के लोगों ने चीख-पुकार मचा दी, जिसके बाद बच्ची को गंभीर हालत में जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया.

नासिक की झुग्गी बस्ती में लगी भीषण आग, नहीं गई किसी की जान

वारदात के बाद पुलिस ने अज्ञात आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और जल्द से जल्द आरोपी को पकड़ने की बात कह रही है. पुलिस ने आरोपी के खिलाफ धारा 307 और 454 के तहत मामला दर्ज किया है. वहीं पीड़ित बच्ची ने पुलिस को अपने बयान में बताया है कि घर में उस पर किसी ने केरोसिन डाला और फिर माचिस से आग लगा दी. मिली जानकारी के मुताबिक घटना 5:30 बजे के उस समय की है, जब पीड़ित नाबालिग अपने चाचा के साथ बाड़ी में थी और फिर वह खिलौना लेने घर के अंदर चली गई. तभी किसी ने बच्ची को आग के हवाले कर उसे मारने की कोशिश की.

दिल्ली : रोहिणी की झुग्गी बस्ती में 70 झोपड़ियां जलकर खाक, कोई हताहत नहीं

परिजनों ने बताया कि उन्हें घर से अचानक बच्ची के चीखने-चिल्लाने की आवाज आने लगी, तभी बच्ची की छोटी बहन अंदर पहुंची और बहन को आग में लिपटा देख रोते और चीखते हुए बाहर आई. इतने में पूरा परिवार भी अंदर पहुंच गया और बच्ची को आग में लिपटा देख हैरान रह गया. परिजनों ने बच्ची को कपड़ों से ढंककर आग बुझाई, लेकिन अब तक बच्ची 70 प्रतिशत से अधिक झुलस चुकी थी. आग बुझाने के बाद परिजन बच्ची को लेकर अस्पताल के लिए भागे, जहां अब भी बच्ची का इलाज चल रहा है.