कांग्रेस की भीतरघात हुई उजागर! जिलाध्यक्ष बोले- विधायक समर्थक कर सकते हैं जानलेवा हमला

भोपालः हालिया एमपी उपचुनाव में हार के बाद भिंड जिले में कांग्रेस पार्टी की अंतर्कलह उजागर हो गई है. दरअसल भिंड में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष जय श्रीराम बघेल ने पार्टी के विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह और उनके समर्थकों से अपनी जान को खतरा बताया है.

कांग्रेस की भीतरघात हुई उजागर! जिलाध्यक्ष बोले- विधायक समर्थक कर सकते हैं जानलेवा हमला
कांग्रेस नेता जय श्रीराम बघेल.

भोपालः हालिया एमपी उपचुनाव में हार के बाद भिंड जिले में कांग्रेस पार्टी की अंतर्कलह उजागर हो गई है. दरअसल भिंड में कांग्रेस के जिलाध्यक्ष जय श्रीराम बघेल ने पार्टी के विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह और उनके समर्थकों से अपनी जान को खतरा बताया है. कांग्रेस जिलाध्यक्ष ने भिंड एसपी को आवेदन देकर सुरक्षा देने की मांग की है. 

जय श्रीराम बघेल ने बताया कि उन्हें लगातार कांग्रेस कार्यकर्ताओं से इस बात की सूचना मिल रही है कि डॉक्टर गोविंद सिंह के समर्थक कभी भी उन पर जानलेवा हमला कर सकते हैं. ऐसे में वह सरकारी व्यय पर अपनी सुरक्षा चाहते हैं जिसके लिए उन्होंने भिंड एसपी को एक आवेदन सौंपकर सुरक्षा गार्ड की मांग की है।

किसानों से CM शिवराज की अपील- PM मोदी से बड़ा आपका कोई हितैषी नहीं, भ्रम में न आएं

क्या है विवाद की वजह
दरअसल भिंड जिलाध्यक्ष जय श्रीराम बघेल और जिला कांग्रेस कमेटी उपचुनाव में मेहगांव सीट पर हार के लिए पूर्व मंत्री और लहार विधायक डॉक्टर गोविंद सिंह को दोषी ठहरा रहे हैं. जिसके बाद हाल ही में जिला कांग्रेस कमेटी और जिला अध्यक्ष द्वारा पूर्व मंत्री गोविंद सिंह के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित कर उच्च नेतृत्व से उन्हें 6 साल के लिए पार्टी से निष्कासित किए जाने की मांग की है. जिसके बाद से ही यह मुद्दा काफी गरमाया हुआ है.

हेमंत कटारे को उपचुनाव में मिली थी हार
उपचुनाव में कांग्रेस ने पूर्व विधायक हेमंत कटारे को अपना उम्मीदवार बनाया था. वहीं भाजपा की तरफ से कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले ओपीएस भदौरिया को अपना उम्मीदवार बनाया गया था. उपचुनाव में हेमंत कटारे को हार का सामना करना पड़ा था. नतीजों के बाद से ही कांग्रेस में भीतरघात होने की बात चल रही थी. 

NO डिनर, NO शूटिंगः 'विद्या बालन ने ठुकराई वनमंत्री संग खाने की पेशकश', अफसर ने रुकवा दी शूटिंग

कांग्रेस के प्रदेश महासचिव बाबा भगवानदास सेंथिया भी उपचुनाव में हार की वजह पार्टी की भीतरघात को ही बता रहे हैं. उन्होंने कमलनाथ से इसकी जांच कराने की भी मांग की है. 

WATCH LIVE TV