अब कौन कराएगा इलाज? बीमारी से जूझ रहे थे नाती, नहीं हो पा रहा था इलाज, गरीब नाना ने लगा ली फांसी

गरीबी व आर्थिक परेशानियों का सामना करते हुए उन्हें इलाज करवाने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था.

अब कौन कराएगा इलाज? बीमारी से जूझ रहे थे नाती, नहीं हो पा रहा था इलाज, गरीब नाना ने लगा ली फांसी
मुखिया की मौत के बाद परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल हो गया

अभय पाठक/अनूपपुरः मध्य प्रदेश के अनूपपुर जिले में आर्थिक तंगी से परेशान परिवार के मुखिया ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. मामला जिले के चचाई थाने से सामने आया, जहां गोपाल बैगा नामक शख्स अपने घर के पीछे स्थित पेड़ पर फांसी का फंदा बनाकर झूल गया. बताया जा रहा है कि कोविड काल के बाद वह आर्थिक तंगी से जूझ रहा था, इसी कारण उसने आत्महत्या करने का कदम उठाया. हालांकि पुलिस आत्महत्या के कारण पता लगाने में जुटी हुई है.

दोनों नाती की तबीयत थी खराब
मामला चचाई थाने के बरगवां गांव का है, जहां 50 साल के गोपाल बैगा ने अपने घर के पीछे लगे पेड़ पर फांसी लगाकर आत्महत्या की. जानकारी मिली है कि कोविड काल में उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं रही, वे अपने परिवार का पालन पोषण भी ठीक से कर पाने में खुद को असमर्थ पा रहे थे. 

परिजनों का कहना है कि लंबे समय से उनके दोनों नाती की तबीयत भी खराब चल रही थी. कई दिनों से चल रहे इलाज के बावजूद उनके स्वास्थ्य पर कोई असर नहीं पड़ रहा था. जिसके चलते उन्होंने कई अन्य जगहों पर भी इलाज करवाया. लेकिन गरीबी व आर्थिक परेशानियों का सामना करते हुए उन्हें इलाज करवाने में कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा था. 

यह भी पढ़ेंः- बाप-बेटी की जहर खाने से मौत, इस कारण पूरे परिवार ने लिया था सामूहिक आत्महत्या का फैसला

घर के पीछे स्थित पेड़ पर झूल गया
परिवार का पोषण ठीक से नहीं कर पाने और आर्थिक तंगी के चलते गोपाल ने अपने घर के पीछ स्थित पेड़ पर फांसी का फंदा लगाया और उसी में लटककर आत्महत्या कर ली. मामले की जानकारी लगते ही पुलिस मौके पर पहुंची और उन्होंने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मामले की जांच शुरू कर दी. मृतक के आत्महत्या के कारणों की पुष्टि नहीं हो सकी है, पुलिस जांच में आत्महत्या के कारण तलाशने में लगी है. 

यह भी पढ़ेंः- सरकारी डॉक्टर का Video Viral: मरीज से कहा- 'यहां ठीक से इलाज नहीं होगा, प्राइवेट में जाओ'

WATCH LIVE TV