close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

टीकमगढ़ः जान जोखिम में डालकर उफनदी नदी में स्टंट दिखा रहे हैं बच्चे, प्रशासन बेखबर

यहां बच्चे अपनी जान को जोखिम में डालकर उफनती नदी को इधर से उधर पार करते हुए स्टंट दिखा रहे हैं, जबकि यह स्थान पहले से ही पानी के मामले में अतिसंवेदनशील माना जाता है.

टीकमगढ़ः जान जोखिम में डालकर उफनदी नदी में स्टंट दिखा रहे हैं बच्चे, प्रशासन बेखबर
मामले में थाना कोतवाली पुलिस का कहना है कि इस संबंध में उन्हें अभी जानकारी मिली है

आर.बी. सिंह परमार/टीकमगढ़ः मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में बच्चे जान जोखिम में डालकर उफनती नदी में छलांग लगा रहे हैं और स्टंटबाजी दिखा रहे हैं. दरअसल, इन इलाकों में सुरक्षा व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम न होने के कारण नदी के रपटे पर बह रहे तेज रफतार पानी और गहरे कुण्ड की परवाह किये बगैर नाबालिग बच्चे बिना रोकटोक के स्टंटबाजी कर रहे हैं. टीकमगढ़ जिले की धार्मिक नगरी कुण्डेश्वर के पास से निकली जमडार नदी में बच्चों की इस स्टंटबाजी से कहीं न कहीं प्रशासन पर सवाल खड़े होते हैं.

यहां बच्चे अपनी जान को जोखिम में डालकर उफनती नदी को इधर से उधर पार करते हुए स्टंट दिखा रहे हैं, जबकि यह स्थान पहले से ही पानी के मामले में अतिसंवेदनशील माना जाता है. यहां अब तक कई लोगों की पानी में डूबकर मौत हो चुकी है, पिछले साल भी यहां नदी पार करते और छलांग लगाते समय एक सरकारी कर्मचारी की पानी में डूबकर मौत हो चुकी है. इसके बावजूद भी जिला प्रशासन और मंदिर ट्रस्ट द्वारा यहां सुरक्षा के कोई इंतजाम नही किए गए हैं, जिसके चलते नाबालिग बच्चे यहां इस तरह की स्टंट कर रहे हैं.

देखें लाइव टीवी

मंदसौर में थमा तबाही वाली बारिश का दौर, लोगों ने ली राहत की सांस, लेकिन...

ऐसे में हर समय बड़ी दुर्घटनाओं की आशंका बनी रहती है. मध्य प्रदेश में लगातार हो रही बारिश के चलते इन दिनों नदी-नाले उफान पर हैं. वहीं प्रशासन को अलर्ट भी किया गया है कि ऐसे स्थानों पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएं, बावजूद इसके प्रशासन द्वारा यहां कोई इंतजाम नहीं किए गए हैं. जबकि यह बुन्देलखण्ड का एक ऐसा धार्मिक स्थल है जहां पूरे महाशिवरात्रि, मकर संक्राति पर बुन्देलखण्ड क्षेत्र से लाखों की संख्या में श्रद्धालु भगवान भोलेनाथ के दर्शन कर जलाभिषेक करते हैं.

VIDEO: सड़क पर तड़पते घायल को देख शिवराज ने रोका काफिला, एंबुलेंस में बैठाकर पूछा- मैं तो नहीं चलूं

भगवान शिव की नगरी कुण्डेश्वर धाम के बारे में कहा जाता है कि ये स्वंयभू शिवलिंग है. जो अपने आप प्रकट हुए थे और ऐसी मान्यता है कि यह शिवलिंग प्रतिवर्ष एक चावल के दाने बराबर बड़ती जाती है. वहीं इस पूरे मामले में थाना कोतवाली पुलिस का कहना है कि इस संबंध में उन्हें अभी जानकारी मिली है. जिसके चलते इन इलाकों में अब प्रशासन ने सुरक्षा बल की तैनाती का निर्णय लिया जाएगा और सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए जाएंगे.