BJP की कार्यशैली पर सवाल उठाने के बाद बाबूलाल गौर ने लिया यू-टर्न, बोले- 'हम सब एक परिवार'

 BJP को पहले जैसी पार्टी नहीं रही कहने के बाद अब उनका कहना है कि 'हम (बीजेपी) एक ही परिवार हैं.'

BJP की कार्यशैली पर सवाल उठाने के बाद बाबूलाल गौर ने लिया यू-टर्न, बोले- 'हम सब एक परिवार'
पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर को लोकसभा चुनाव का ऑफर दे चुकी है कांग्रेस (फाइल फोटो)

भोपालः विधानसभा चुनाव में बीजेपी की हार के बाद से लगातार पार्टी की कार्यशैली पर सवाल उठाने और विवादित बयानों की झड़ी लगाने के बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर अपने ही बयानों पर यू-टर्न लेते हुए दिखाई दे रहे हैं. बता दें बीते 25 जनवरी को ही भाजपा से पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता बाबूलाल गौर ने अपनी ही पार्टी पर जमकर निशाना साधा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि  'बीजेपी अब कुशाभाऊ ठाकरे वाली पार्टी नहीं बची है, जिन्होंने इस पार्टी (बीजेपी) को जीरो से हीरो बनाया है, जो हमेशा सबको साथ लेकर चले. आज मध्य प्रदेश में उसी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है.' जिसके बाद पूर्व CM के इस बयान को लेकर भाजपा में भूचाल मचा था.

बाबूलाल गौर ने अपने घर में लगाई कमलनाथ की तस्वीर, BJP प्रदेश अध्यक्ष ने दिया अल्टीमेटम

पूर्व सीएम के अपनी ही पार्टी को लेकर दिए विवादित बयानों को लेकर और लगातार कांग्रेस के पक्ष में बयानबाजी के चलते प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह ने गौर को अल्टीमेटम दिया था कि अगर वह पार्टी के अनुशासन के दायरे में रहकर काम नहीं करेंगे तो उन्हें पार्टी से बाहर जाना होगा. जिसके बाद अब पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर अपने ही बयानों पर यू-टर्न लेते दिखाई दे रहे हैं. BJP को पहले जैसी पार्टी नहीं रही कहने के बाद अब उनका कहना है कि 'हम (बीजेपी) एक ही परिवार हैं.' 

बाबूलाल गौर बोले- जिसने BJP को जीरो से हीरो बनाया उन्हें ही दरकिनार किया जा रहा है

वहीं BJP लोकसभा चुनाव के प्रभारी स्वतंत्र देव सिंह के घर आने के सवाल पर गौर बोले कि 'परिवार है हमारा, प्रेम भाव से आते हैं सब. हम उनके यहां जाते हैं वो हमारे यहां आते हैं. वो हमारे परिवार के सदस्य है. नरेंद्र मोदी भी आते थे, जब वो संगठन मंत्री थे. राजनीति भाव से नही आते, कांग्रेस वाले भी आते हैं. वहीं कांग्रेस के लोकसभा चुनाव लड़ने के ऑफर को लेकर गौर ने कहा कि 'पहले प्रस्ताव पर विचार था अब विचार भी नहीं है. ऑफर को एक कान से सुनकर दूसरे कान से निकाल दिया है. अब मेरी पार्टी से कोई शिकायत नहीं है, जो थी वह भी नहीं है.