close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

बाबूलाल गौर बोले- जिसने BJP को जीरो से हीरो बनाया उन्हें ही दरकिनार किया जा रहा है

उन्होंने आगे कहा कि 'रघुनंदन शर्मा, लक्ष्मीकांत शर्मा, राघव जी, कुसमरिया हों या फिर सरताज सिंह, पार्टी ने सभी को साइडलाइन किया है.

बाबूलाल गौर बोले- जिसने BJP को जीरो से हीरो बनाया उन्हें ही दरकिनार किया जा रहा है
बीजेपी अब कुशाभाऊ ठाकरे वाली पार्टी नहीं बची है- बाबूलाल गौर

भोपालः हमेशा ही अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने एक बार फिर अपनी ही पार्टी पर निशाना साधा है. बीजेपी पर बड़ा हमला बोलते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि 'बीजेपी अब कुशाभाऊ ठाकरे वाली पार्टी नहीं बची है, जिन्होंने इस पार्टी (बीजेपी) को जीरो से हीरो बनाया है, जो हमेशा सबको साथ लेकर चले. आज मध्य प्रदेश में उसी पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है.' उन्होंने आगे कहा कि 'रघुनंदन शर्मा, लक्ष्मीकांत शर्मा, राघव जी, कुसमरिया हों या फिर सरताज सिंह, पार्टी ने सभी को साइडलाइन किया है. वरिष्ठ नेता के सहयोग के बिना पार्टी का भविष्य ठीक नहीं है.' वहीं लोकसभा चुनाव को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर ने पार्टी को नुकसान के संकेत भी दिए हैं.

मध्य प्रदेशः अचानक शिवराज से मिलने पहुंचे सिंधिया, बंद कमरे 45 मिनट तक चली चर्चा

बता दें कांग्रेस ने बाबूलाल गौर को भोपाल लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ने का ऑफर दिया था, जिसका खुलासा खुद गौर ने बीते गुरुवार को किया था. गौर ने गुरुवार को संवाददाताओं से चर्चा करते हुए कहा कि, ''यह बात सही है कि दिग्विजय सिंह ने उन्हें कांग्रेस से चुनाव लड़ने का ऑफर दिया है. कोई घर पर आया था और ऑफर दिया तो क्या कह सकते हैं, फैसला तो हमें करना है. गौर ने बताया कि दिग्विजय सिंह ने चुनाव लड़ने का ऑफर दिया, जिस पर मैनें कहा कि मंशा तो नहीं है.''

Video में शिवराज सिंह के पीछे दिखी आडवाणी की फोटो, यूजर्स बोले- 'इतने दिनों बाद कैसे याद आ गई'

उन्होंने आगे कहा कि 'दिग्विजय सिंह बोले कि विचार करिए तो मैने कहा कि विचार करेंगे. गौर ने आगे कहा कि, ऑफर तो कोई भी कर सकता है, कोई आपके पास आए और कहे कि कुछ बात करना चाहते हैं तो क्या उससे बात नहीं करेंगे. विचार करने को कहा है तो विचार करेंगे.' बता दें विधानसबा चुनाव से पहले ही बीजेपी के कई नेताओं ने उम्मीदवार न बनाए जाने पर बगावत कर दी थी और निर्दलीय अथवा दूसरे दल के उम्मीदवार के तौर पर मैदान में उतरे थे.