कोरोना वायरस से लड़ाई, WhatsApp पर पढ़ाई

महाराष्ट्र में कोरोना के प्रकोप के बीच स्कूल और कॉलेज बंद हैं. ऐसे में इंटरनेट और सोशल मीडिया पढ़ाई का एक अच्छा जरिया बनकर उभरे हैं. 

कोरोना वायरस से लड़ाई, WhatsApp पर पढ़ाई

नागपुर: महाराष्ट्र में कोरोना वायरस (coronavirus) के प्रकोप के बीच स्कूल और कॉलेज बंद हैं. ऐसे में इंटरनेट और सोशल मीडिया पढ़ाई का एक अच्छा जरिया बनकर उभरे हैं. कोरोना की वजह से पढ़ाई का नुकसान न हो, इसके लिए नागपुर के गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज प्रबंधन द्वारा वॉट्सऐप कक्षाएं संचालित कराई जा रही है.

कॉलेज के प्रोफेसर एक टॉपिक पर 8 से 10 मिनट का वीडियो शूट करते हैं और कॉलेज छात्रों के लिए बनाए गए वॉट्सऐप ग्रुप पर भेज देते हैं. इस वॉट्सऐप लेक्चर के साथ छात्रों के सवालों के जवाब भी वह इसी ग्रुप में देते हैं. इसके मायने ये हैं कि छात्रों की शंका का समाधान भी इसी ग्रुप में हो जाता है.

घर बैठे छात्र वॉट्सऐप के माध्यम सें पढ़ाई कर रहे हैं. पहले सिर्फ चैटिंग के लिए इस्तेमाल होने वाला वॉट्सऐप अब पढ़ाई के लिए इस्तेमाल में लाया जा रहा है.नागपुर के गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज के एक प्रोफेसर छात्रों को संबोधित करते हुए किसी टॉपिक पर लेक्चर देते हैं और इस लेक्चर को दूसरे प्रोफेसर शूट करते हैं.

ये भी पढ़ें: चार दिन में कोरोना वायरस खत्म, चीन ने इस दवा से कर लिए अपने हजारों मरीज ठीक

नागपुर के इस गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज के 12 विभागों में 2600 छात्र पढ़ाई कर रहे हैं. कॉलेज में कुल 110 शिक्षक हैं. पहले से ही कक्षा के नाम से वॉट्सऐप ग्रुप बनाए गए हैं. अब कोरोना के संकट के बाद कॉलेज की छुट्टी है. ऐसे में इन वॉट्सऐप ग्रुप पर लेक्चर के वीडियो प्रोफेसर, छात्रों को भेजते हैं. इस तरह छात्र घर पर बैठे पढ़ाई कर पा रहे हैं. 

नागपुर गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक कॉलेज के प्रोफेसर समीर तैलंग बताते हैं कि ये 15 -20 दिन पढ़ाई के लिए महत्वपूर्ण थे, लेकिन कोरोना के चलते छुट्टियां देने से छात्रों की पढ़ाई का नुकसान हो रहा है. इसीलिए हमने ई-लर्निंग का विकल्प ढूंढा है और फर्स्ट, सेकंड और थर्ड ईयर के वाट्सऐप ग्रुप बनाए. इस ग्रुप में हम वीडियो कंटेंट भेजते हैं.

नागपुर गवर्नमेंट पॉलिटेक्निक की छात्र स्वामिनी पाटील बताती हैं, कोरोना ​की वजह से हमें अचानक छुट्टी दे दी गई जबकि अप्रैल में हमारे एग्जाम होने हैं. हमें इस बात की टेंशन थी. लेकिन हमारे प्रिंसिपल ने वाट्सऐप ग्रुप बनवाया और अब हमें इसमें लेक्चर के वीडियो लिंक मिल जाते हैं.