close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चिदंबरम को राहत नहीं, कोर्ट ने AIIMS से कहा कि उनके इलाज के लिए एक बोर्ड बनाए

कोर्ट ने एम्स से कहा कि चिदंबरम को इलाज के लिए एक बोर्ड बनाये जिसमें चिदंबरम का इलाज कर रहे उनके फ़ैमिली डॉक्टर नागेश्वर रेड्डी को शामिल करें.

चिदंबरम को राहत नहीं, कोर्ट ने AIIMS से कहा कि उनके इलाज के लिए एक बोर्ड बनाए
पी चिदंबरम हैदराबाद अपने फैमिली डॉक्‍टर रेड्डी से ईलाज करवाने की मांग कर रहे थे जिसे कोर्ट ने नकार दिया.(फाइल फोटो)

नई दिल्‍ली: इलाज के लिए राहत की उम्‍मीद कर रहे पी चिदंरबम (P Chidambaram) को दिल्ली हाई कोर्ट से झटका लगा है. कोर्ट ने एम्स से कहा कि चिदंबरम को इलाज के लिए एक बोर्ड बनाये जिसमें चिदंबरम का इलाज कर रहे उनके फ़ैमिली डॉक्टर नागेश्वर रेड्डी को शामिल करें. दरअसल पी चिदंबरम हैदराबाद अपने फैमिली डॉक्‍टर रेड्डी से ईलाज करवाने की मांग कर रहे थे जिसे कोर्ट ने नकार दिया. दरअसल दिल्ली हाई कोर्ट में पी चिदंबरम ने मेडिकल ग्राउंड पर तीन दिन के लिए अंतरिम जमानत मांगी थी. चिदंबरम की तरफ से वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि चिदंबरम का स्‍वास्‍थ्‍य ठीक नहीं है. पहली बार 7 अक्टूबर को एम्स में चेकअप कराया गया. वह आंत की बीमारी से जूझ रहे हैं. आशंका ये है कि ये रोग कैंसर में बदल सकता है.

इससे पहले बुधवार को आईएनएक्स मीडिया केस में दिल्ली की राउज एवेन्यू कोर्ट ने कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) कस्टडी बढ़ाने से इनकार कर दिया. राउज एवेन्यू कोर्ट ने चिदंबरम को तिहाड़ जेल भेजने का आदेश दिया. चिदंबरम को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेजा गया है. अब चिदंबरम 13 नवंबर तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे. उन्हें अलग सेल में रखा जाएगा जिसमें वेस्टर्न टॉयलेट होगा. इसके अलावा चिदंबरम को खाना भी घर का मिलेगा.

LIVE TV

ईडी ने कोर्ट से 1 और दिन का रिमांड मांगा था. बता दें कि चिदंबरम अब तक 13 दिन की ईडी की हिरासत में रह चुके हैं. ईडी ने कोर्ट से कहा कि चिदंबरम की तबियत खराब थी. लिहाजा, एम्स में इलाज कराया गया, इसलिए ज्यादा समय तक पूछताछ नहीं हो पाई. फिलहाल, और कुछ सवालों के जवाब ईडी को चिदंबरम से चाहिए. चिदंबरम के वकील कपिल सिब्बल ने एक दिन कस्टडी के ईडी की मांग का विरोध करते हुए कहा कि क्या 14 दिन की कस्टडी के दौरान किसी से आमना सामना नहीं कराया. हर दिन की कहानी ईडी की एक ही है. 14 दिन में चिदंबरम का आमना सामना ईडी ने किसी से नहीं कराया.

ईडी ने कोर्ट में कहा, 'हमने आईएनएक्स मामले में कई लोगों को सम्मन जारी किया. चिदंबरम बहुत प्रभावशाली व्यक्ति है लिहाजा दूसरे आरोपियों को ईडी तक पहुचाने में रोक भी सकते है. चिदंबरम की ताजा मेडिकल रिपोर्ट कोर्ट में दायर की. ईडी ने कोर्ट से कहा कि अभी भी कानून एक दिन कस्टडी पी चिदंबरम का उन्हें मिल सकता है. लिहाजा, विरोध करने का कोई आधार नही बनता. अभी भी मामले में जांच चल रही है और चिदंबरम से सवाल पूछे जा रहे है. चिदंबरम के स्वास्थ्य का पूरा ख्याल एजेंसी रख रही है.