close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

चिदंबरम बोले- अगर राहुल गांधी का इस्‍तीफा हो जाता तो पार्टी कार्यकर्ता आत्‍महत्‍या करने लगते

शनिवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक हुई. इसमें कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपने इस्‍तीफे की पेशकश कर दी. हालांकि CWC ने उनकी इस मांग को सर्वसम्‍मति से ठुकरा दिया.  

चिदंबरम बोले- अगर राहुल गांधी का इस्‍तीफा हो जाता तो पार्टी कार्यकर्ता आत्‍महत्‍या करने लगते

नई दिल्‍ली: लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है. ऐसे में शनिवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक हुई. इसमें कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपने इस्‍तीफे की पेशकश कर दी. हालांकि CWC ने उनकी इस मांग को सर्वसम्‍मति से ठुकरा दिया. कांग्रेस के सभी बड़े नेताओं ने राहुल गांधी की इस मांग को ठुकरा दिया. पूर्व वित्‍त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा, अगर राहुल गांधी का इस्‍तीफा हुआ तो दक्ष‍िण के राज्‍यों में कांग्रेस कार्यकर्ता आत्‍महत्‍या करने लगेंगे.

 

इस बार के चुनाव में कांग्रेस का प्रदर्शन भले पूरे देश में कमजोर रहा, लेकिन दक्ष‍िण के राज्‍यों केरल और तमिलनाडु में कांग्रेस का प्रदर्शन कमाल का रहा है. वह खुद अमेठी से तो हार गए, लेकिन केरल के वायनाड से शानदार तरीके से जीत हासिल की.

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का समर्थन करते हुए केरल कांग्रेस के नेताओं ने कहा है कि चुनाव में हुई जबरदस्त हार के आलोक में राहुल गांधी को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है. आम चुनावों में कांग्रेस की जबरदस्त हार के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफा देने की पेशकश की थी. राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता रमेश चेन्निथला ने कहा कि अतीत में भी कांग्रेस पार्टी की इसी तरह की हार हुई और पार्टी फिर से उससे उबरकर सामने आई.

चेन्निथला ने कहा, ‘राहुल गांधी को इस्तीफा देने की जरूरत नहीं है....गांधी का इस्तीफा इसका हल नहीं है. पार्टी को अब मजबूत बनाने की जरूरत है और दोबारा लोगों के भरोसे को पाने की आवश्यकता है और इसके लिए उन्हें पार्टी का नेतृत्व करना चाहिए.’

कांग्रेस नेता ने कहा कि गांधी की सभाओं में जबरदस्त भीड़ होती थी, लेकिन इसे वोट में नहीं बदला जा सका और इसलिए पार्टी को और मजबूत बनाने की आवश्यकता है. कांग्रेस महासचिव ओमान चांडी ने भी विपक्ष के नेता के बयान से सहमति जताते हुए कहा कि पार्टी अध्यक्ष को पद पर बने रहना चाहिए.

देश में 2014 में हुए आम चुनाव में कांग्रेस को 44 सीटें मिली थी और इस बार इस आंकड़े में सुधार करते हुए पार्टी ने लोकसभा की 52 सीटें जीती है. देश के 18 राज्यों एवं केंद्र शासित क्षेत्रों में पार्टी खाता भी नहीं खोल सकी. केरल की 20 सीटों में से कांग्रेस ने 15 सीटें जीती हैं जबकि चार सीटों पर कांग्रेस के सहयोगी दल विजयी हुए हैं.
INPUT: Bhasha