Pranab Mukherjee: पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य बुलेटिन ने किया निराश, डॉक्टर्स ने कही ये बात

अस्पताल की तरफ से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) की हालत ठीक नहीं है. फेफड़े के इन्फेक्शन (Infection) के साथ साथ अब गुर्दे (Kidney) की स्थिति भी खराब हो रही है. 

Pranab Mukherjee: पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य बुलेटिन ने किया निराश, डॉक्टर्स ने कही ये बात
प्रणब मुखर्जी (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: पूर्व राष्ट्रपति (Former President) प्रणब मुखर्जी (Pranab Mukherjee) गहरे कोमा में हैं. वह लगातार वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं. आर्मी रिसर्च एंड रेफरल हॉस्पिटल (R&R ) ने बुधवार को जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा कि वह पिछले 16 दिनों से अस्पताल में भर्ती हैं और ब्रेन सर्जरी के बाद गंभीर स्थिति में हैं.

अस्पताल की तरफ से जारी बुलेटिन में कहा गया है,' माननीय श्री प्रणब मुखर्जी के फेफड़ों में संक्रमण हो गया है, जिसका इलाज जारी है. वहीं उनके गुर्दे की स्थिति कल से ठीक नहीं है.

डॉक्टर्स की एक्सपर्ट्स टीम
दिल्ली छावनी स्थित आर्मी रिसर्च एंड रेफरल अस्पताल (Army Research And Referral Hospital) के डॉक्टरों ने कहा कि एक्सपर्ट्स (Experts) की एक टीम पूर्व राष्ट्रपति के स्वास्थ्य पर लगातार नजर बनाए हुए हैं. साथ ही प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य को लेकर अस्पताल की तरफ से रोजाना हेल्थ बुलेटिन (Health bulletin) भी जारी की जा रही है.

ये भी पढ़ें- Sushant Suicide Case: रिया चक्रवर्ती की टैलेंट मैनेजर जया साहा को ED ने भेजा समन

ब्रेन सर्जरी की गई थी
पूर्व राष्ट्रपति के ब्रेन (Brain) में खून का थक्का जमने के बाद एक आपातकालीन सर्जरी की गई थी. इसके बाद उनका स्वास्थ्य खराब हो गया. डॉक्टर्स की टीम उनके स्वास्थ्य पर निगरानी रखे हुए हैं. लेकिन अभी उनके स्वास्थ्य में सुधार नहीं है.

कोरोना संक्रमित भी थे मुखर्जी
उनका कोविड-19 परीक्षण भी पॉजिटिव आया था. 10 अगस्त को मुखर्जी ने ट्वीट किया था, 'एक अलग प्रोसीजर के लिए अस्पताल आया हूं और मेरा कोविड-19 परीक्षण पॉजिटिव निकला है. पिछले हफ्ते मेरे संपर्क में आए लोगों से मैं अनुरोध करता हूं कि वे खुद को आइसोलेट करें और अपना कोविड-19 परीक्षण कराएं.' (इनपुट भाषा)

 

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.