close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

राजस्थान: शादी के वक्त पेश की ऐसे दहेज की मांग, जानकर दंग रह जाएंगे आप...

क्षेत्र के लोगों ने सामाजिक बदलाव के लिए  दहेज की इस अनूठी पहल की सराहना भी की है.

राजस्थान: शादी के वक्त पेश की ऐसे दहेज की मांग, जानकर दंग रह जाएंगे आप...
लड़के के पिता ने दहेज को सामाजिक बुराई भी बताई. (प्रतीकात्मक फोटो)

लाडनूं (नागौर): नागौर जिले के मंगलपुरा गांव के रहने वाले संदीप और भारती ने दहेज मुक्त शादी करके एक मिसाल कायम की है. यहां के युवा समाजसेवी रमेशकुमार टाक ने अपने पुत्र संदीप की शादी के दौरान एक अनूठी पहल की. जिससे माली समुदाय से आने वाले रमेश ने एक मिशाल कायम करने का प्रयास किया है. संदीप और भारती की दहेज मुक्त शादी के बाद क्षेत्र के लोगों ने सामाजिक बदलाव के लिए इस प्रयास की सराहना भी की है.

अपने बेटे के लिए दहेज मुक्त शादी की पहल करने वाले रमेश कुमार टाक ने मीडिया से बातचीत में कहा कि उनका प्रयास समाज में लड़के-लड़की के भेद को मिटाने का रहा. उन्होंने दुल्हन ही दहेज है का संदेश भी दोहराया. वधू भारती ओमप्रकाश मारोठिया की पुत्री है. इस विवाह के दौरान मात्र एक रूपया व श्रीफल लेकर वधु को घर लेकर लाया गया है. 

टाक ने यह भी बताया कि अब समय आ गया है कि दहेज जैसी सामाजिक बुराई को हम सभी को मिलकर हटाना होगा. इस कुरिती को खत्म किए बिना समाज का भला नहीं हो सकता है. 

टाक के इस फैसले का माली सैनी समाज मंगलपुरा ने भी स्वागत किया है. समाज के लोगों का कहना है कि समाज में इस तरह के उदाहरण से दहेज प्रथा का अन्त होगा. माली समाज,  मंगलपुरा के अध्यक्ष महालचन्द टाक, मंत्री वीरेन्द्र भाटी मंगल, तोलाराम मारोठिया, सागरमल भाटी, भंवरलाल , महावीर तंवर सहित अनेक लोगों ने रमेश कुमार टाक के इस फैसले को समाज के लिए अनुकरणीय कदम बताया.