जल रही थी शहीद पिता की चिता, 6 साल का बेटा लगा रहा था 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे

राजस्थान के 5 शहीदों में कोटा के विनोदकला के रहने वाले हेमराज का भी नाम शामिल था. 

जल रही थी शहीद पिता की चिता, 6 साल का बेटा लगा रहा था 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे
हेमराज के परिवार में उनकी पत्नी सहित दो बेटियां और दो बेटे बचे हैं.

हिमांशु मित्तल, कोटा: कोटा के हाड़ौती के रहने वाले शहीद हेमराज का शनिवार को उनके पैतृक गांव विनोद कलां में अंतिम संस्कार किया गया. इस दौरान बड़ी संख्या में पूरे जिले से हजारों लोग उन्हें अंतिम विदाई देने पहुंचे हुए थे. 

अंतिम संस्कार के समय शहीद हेमराज का 6 साल का बेटा लगातार पाकिस्तान मुर्दाबाद का नारा लगाता रहा. जिसे देख वहां मौजूद लोगों की आंखे नम हो गई. वहीं, पाकिस्तान परस्त आंतकियों के खिलाफ गुस्सा भी उमड़ पड़ा. इस दौरान वहां मौजूद लोग पाकिस्तान से शहीदों की मौत का बदला लेने की बात नारों में लगा रहे थे. 

आपको बता दें कि, राजस्थान के 5 शहीदों में कोटा के विनोदकला के रहने वाले हेमराज का भी नाम शामिल था. उनकी अंतिम यात्रा के दौरान भारी भीड़ उमड़ी हुई थी. पारिवारिक सूत्रों के अनुसार, हेमराज के परिवार में उनके जाने के बाद उनकी पत्नी सहित दो बेटियां और दो बेटे बचे हैं. 

पिता की शहादत पर गर्व, आतंकवाद के खिलाफ युद्ध का हो आगाज

मीडिया से बातचीत में उनके बच्चों ने कहा कि हमें अपने पिता की शहादत का बदला चाहिए. इसमें शामिल किसी को वयक्ति को ना बख्सा जाए और अब वक्त आ गया है कि आतंकवाद के खिलाफ युद्ध का आगाज़ किया जाए. 

हेमराज की बड़ी बेटी अनिता ने बताया कि वह भविष्य में एक शिक्षक बनना चाहती थी. अपने पिता की बहुत प्यारी थी जब वह पिछले बार आए थे तो बोला था बहुत अच्छी पढ़ाई करनी है. लेकिन अपनी पोस्टिंग पर पहुंचने से पहले ही उनकी शहादत की खबर आ गई. मीडिया से बातचीत में शहीद हेमराज की बेटी अनिता खुद आर्मी में जाकर आतंकवादियों का खात्मा करने की बात कह रही है. जबकि उनकी दूसरी बेटी और उनकी पत्नी तो इस हादसे से स्तब्ध रह गए. और खुद को नहीं संभाल पा रहे थे. उनके दोनों बेटे भी अब पुलिस सेवा और आर्मी में जाना चाहते हैं, ताकि पिता की मौत का बदला लिया जा सके. 

आपको बता दें कि, राजस्थान के रहने वाले 5 सपूत कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले का शिकार हुए हैं. जिनमें शहीद जीतराम, शहीद रोहिताश्व लाम्बा, शहीद नारायण लाल गुर्जर, शहीद हेमराज मीणा और शहीद भागीरथ सिंह का नाम शामिल है.