अलवर: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा, जमकर हुई नारेबाजी

मेवात क्षेत्र के लोगों ने नागरिकता संसोधन बिल के खिलाफ अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए बिल के खिलाफ, गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन किया. 

अलवर: नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ फूटा लोगों का गुस्सा, जमकर हुई नारेबाजी
लोगों ने CAA के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करते हुए राष्ट्रपति के नाम उपखंड अधिकारी को सौपा ज्ञापन.

अलवर: नागरिकता संसोधन बिल के खिलाफ मेवात क्षेत्र के लोगों का गुस्सा फूट पड़ा. जिसके बाद लोगों ने बिल के विरोध में प्रदर्शन कर जमकर नारेबाजी की. उपखण्ड कार्यालय परिसर में बिल के खिलाफ नाराजगी व्यक्त करते हुए राष्ट्रपति के नाम उपखंड अधिकारी को सौपा ज्ञापन. 

खबर के मुकाबिक, किशनगढ़बास उपखण्ड कार्यालय परिसर में मेवात क्षेत्र के लोगों ने नागरिकता संसोधन बिल के खिलाफ अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए बिल के खिलाफ व गृह मंत्री अमित शाह व प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन किया. इस मौके पर पुलिस जाब्ता मोके पर मौजूद था जो किसी भी तरह की हिंसा की स्थति से निपटने के लिए तैनात था.

मेवात के ग्रामीणों ने कस्बे के बाईपास हाईवे पर एकत्रित होकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए उपखण्ड कार्यालय पहुंचे. जहां, गेट के बाहर जमकर नारेबाजी कर अपना आक्रोश प्रकट किया. जिसके बाद बिल के विरोध में राष्ट्रपति के नाम उपखंड अधिकारी को ज्ञापन दिया. आल इंडिया मेवात विकास के नेतृत्व में मेवात के ग्रामीणों ने नागरिकता संसोधन बिल के खिलाफ लामबंद होकर प्रदर्शन कर मीडिया से रूबरू होकर बताया नागरिकता कानून यह देश हित में नहीं है. 

साथ ही लोगों ने यह भी कहा कि बिल को वापिस कराने व जामिया मिलिया यूनिवर्सिटी में पुलिस की बर्बरता व अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी मे अवैध बंदी व कर्फ़्यू का यूपी पुलिस व दिल्ली पुलिस ने जो माहौल बना रखा है, यह बहुत शर्मनाक है. पुलिस द्वारा घिनौनी हरकत की सुप्रीम कोर्ट के किसी रिटायर्ड जज से जांच कराने की मांग की है.