close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जैसलमेर: वार्डों के परिसीमन पर गहराया विवाद, पार्षदों ने जताई आपत्ति

वार्डों के पुनर्गठन के कारण लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है.

जैसलमेर: वार्डों के परिसीमन पर गहराया विवाद, पार्षदों ने जताई आपत्ति
ढूंढा पाड़ा में आमने सामने के मकान अलग-अलग वार्ड में है. (प्रतीकात्मक फोटो)

जैसलमेर/मनीष रामदेव: जैसलमेर शहर में वार्डों के परिसीमन के दौरान सीमा क्षेत्र को लेकर विवाद बढ़ता दिख रहा है. शहर के 35 वार्डों को 45 वार्डों में तब्दील करने के कार्य पर स्थानीय लोगों ने कई आपत्तियां दर्ज की है. 

आपको बता दें कि इन दिनों वार्डों का परिसीमन चल रहा है. इस दौरान नगरपरिषद ने अपने स्तर से 45 वार्ड बना दिए हैं, लेकिन शहर की 65 हजार की आबादी के लिए ये वार्ड परेशानी का सबब बन गए हैं. वार्डों के पुनर्गठन के कारण लोगों को समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. 

भीतरी हिस्सों में किया गया बदलाव
स्थानीय लोगों का आरोप है कि मनमर्जी से वार्डों को बांटा गया है. इस दौरान शहर के भीतरी हिस्सों के वार्डों में ज्यादा बदलाव किया गया. आरोप यह भी है कि आपत्ति दर्ज करवाने के बावजूद नगरपरिषद में संतोषजनक जवाब भी नहीं मिल रहा है. 

परिसीमन के कारण बढ़ सकता है विवाद
आगामी दिनों में परिसीमन को लेकर विवाद गहराने की आशंका भी बढ़ गई है. वार्डो के परिसीमन के पीछे असली किरदार कौन है, यह स्पष्ट नहीं है. वैसे माना जा रहा है कि व्यक्तिगत राजनीतिक कारणों से भी लोग ऐसे आरोप लगा सकते हैं. 

उपसभापति भी हैं नाराज
वार्ड परिसीमन के कारण वर्तमान नगरपरिषद के बोर्ड उपसभापति रमेष जीनगर भी नाराज हैं. इसमें एक ही सड़क के दोनों तरफ के मकान अलग-अलग वार्ड में शामिल किये गये है. जिस कारण विकास कार्य प्रभावित हो सकता है. 

400-500 मतदाताओं का बनाया गया एक वार्ड
बता दें, शहर के भीतरी हिस्सों के वार्डों में जनसंख्या का हवाला देकर 400 से 500 मतदाताओं का एक वार्ड बनाया गया है. इस दौरान एक वार्ड वाले सोनार दुर्ग में दो वार्ड कर दिए गए हैं. इसके साथ ही दो मोहल्लों को जोड़कर दो वार्ड बनाए हैं. 

ढूंढा पाड़ा के परिसीमन पर पार्षद ने जताई आपत्ति
सबसे रोचक बात है कि दुर्ग स्थित ढूंढा पाड़ा में आमने सामने के मकान अलग-अलग वार्ड में आ गए हैं. जिस पर दुर्ग पार्षद अरविंद व्यास ने भी आपत्ति जताई है. वहीं, वार्ड नं. 10 में जनसंख्या के 25 से 28 तक के चार ब्लॉक थे. वर्तमान पुनर्गठन में 28 नंबर ब्लॉक को दूसरे वार्ड में जोड़ दिया, साथ ही 25 नंबर ब्लॉक का एक हिस्सा भी किसी अन्य वार्ड में जोड़ दिया. दूसरी तरफ 36 नंबर ब्लॉक इसमें जोड़ दिया.