'सुगम मतदान' पर बोले सुनील अरोड़ा- 'दिव्यांगजनों के लिए चुनाव प्रक्रिया सरल हो'

सुनील अरोड़ा ने कहा कि निर्वाचन में दिव्यांगों की भागीदारी तब ही प्रभावी होगी, जब नामांकन से लेकर निर्वाचन तक की सभी प्रक्रियाएं दिव्यांगजनों के अनुकूल हो. 

'सुगम मतदान' पर बोले सुनील अरोड़ा- 'दिव्यांगजनों के लिए चुनाव प्रक्रिया सरल हो'
2019 में हुए चुनाव की थीम भी सुगम मतदान.

जयपुर: मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने कहा कि निर्वाचन में दिव्यांगों की भागीदारी तब ही प्रभावी होगी, जब नामांकन से लेकर निर्वाचन तक की सभी प्रक्रियाएं दिव्यांगजनों के अनुकूल हो. उन्होंने कहा कि दिव्यांगजनों की समस्याओं पर व्यक्तिगत और पारिवारिक सोच से ज्यादा चिंतन की जरूरत है. 

सुनील अरोड़ा दिल्ली में 'सुगम मतदान' विषय पर आयोजित एक राष्ट्रीय कार्यशाला को संबोधित कर रहे थे. अरोड़ा ने कहा कि बूथ लेवल अधिकारी से लेकर चुनाव आयोग के हर अधिकारी-कर्मचारी को इस बारे में काम करना होगा. 

2019 में हुए चुनाव की थीम भी सुगम मतदान, जिसके चलते देश भर में दिव्यांगों को मतदान केंद्रों पर अधिकार मिले और वे काफी तादात में मतदान केंद्र तक पहुंचे. झारखंड में हाल ही हुए चुनाव में 90 प्रतिशत से अधिक दिव्यांगजनों ने अपने मतदाधिकार का इस्तेमाल किया, जो कि बेहद खुशी की बात है. 

इस अवसर पर चुनाव आयुक्त अशोक लवासा ने कहा कि चुनाव आयोग दिव्यांगजनों को निर्वाचन प्रक्रिया से जोड़ने के कार्यों में देश के जिला निर्वाचन अधिकारी और मुख्य निर्वाचन अधिकारियों ने बेहतर काम करके दिखाया है लेकिन अभी भी लंबा रास्ता बाकी है. 

इस अवसर पर चुनाव आयुक्त सुशील चंद्रा, सचिव उमेश सिन्हा सहित अन्य अधिकारियों ने विचार रखे। प्रदेश से अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी कृष्ण कुणाल भी कार्यशाला में मौजूद रहे.